AC (Air Conditioner) क्या है और यह काम कैसे करता है? - HINDI WEB BOOK

AC (Air Conditioner) क्या है और यह काम कैसे करता है?

AC (Air Conditioner) क्या है और यह काम कैसे करता है?

Facebook
WhatsApp
Telegram

AC (Air Conditioner) क्या है, और यह काम कैसे करता है ? AC का Full Form क्या होता है, यह कितने प्रकार का होता है, और AC का आविष्कार सबसे पहले किसने किया था। ऐसे बहुत से प्रश्न है, जो AC से सम्बंधित है, इन सभी प्रश्नो के उत्तर हम इस आर्टिकल “AC (Air Conditioner) क्या है और यह काम कैसे करता है” के माध्यम से जानकारी देने का पूरा प्रयास करेंगे। 

AC Kya Hai
AC का उपयोग गर्मी के मौसम में वातावरण को ठंडा करने के लिए किया जाता है। AC का इस्तेमाल अब शहरों तक ही सिमित नहीं रहा, गावों में भी लोग इसका इस्तेमाल करने लगे है। पिछले कुछ वर्षों से बढ़ती गर्मी के कारण अब घरो में पंखे और कूलर की जगह AC का इस्तेमाल काफी बढ़ गया है।

पहले केवल कुछ संपन्न लोग ही AC का इस्तेमाल किया करते थे, परंतु आजकल मध्यमवर्गीय परिवार के लोग भी AC का इस्तेमाल करने लगे है। बड़े बड़े मॉलों, व्यावसायिक स्थानों, ऑफिस आदि में भी टेम्प्रेचर को संतुलित करने के लिए AC (Air Conditioner) का ही इस्तेमाल किया जाता है। चलिए जानते है AC क्या है हिंदी में?

 

AC क्या है हिंदी में? What is Air Conditioner in Hindi?

AC का  full form “Air Conditioner” होता है, जिसे हिंदी में “वातानुकूलक” कहाँ जाता है। हवा को ठंडा करने के लिये Air Conditioning एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसके जरिये आप अपनी सुविधा के मुताबिक कमरे से गर्मी और नमी को बाहर निकाल सकते है। 

AC जहां पर लगा होता है, वह वहाँ से गर्म हवा को सोखता है, और उस गर्म हवा को अपने अंदर लगे हुऐ Refrigerant और Coils के द्वारा Process करके ठंडी हवा को वापस बाहर फेकता है। जिससे वातावरण ठंडा हो जाता है, और उस जगह का Temperature कम होने लगता है। अगर इसे सरल भाषा में कहा जाये तो AC आपके कमरे की गर्मी को बाहर निकालकर उसे ठंडा कर देता है। उम्मीद आप AC क्या है यह तो समझ ही गए होने, चलिए अब जानते की AC काम कैसे करता है?  

AC कैसे काम करता है? How does AC work?

AC कैसे काम करता है इसे इस प्रकार से समझते है, Air Conditioner Machine के मुख्य रूप से 4 Part होते है: 

1.) Evaporator  2.) Compressor  3.) Condenser  4.) Expansion Valve

  • Evaporator

यह Heat को Exchange करने वाला Coil होता है, जिसमे Heat Fins बने हुऐ होते है। जब नमी और गर्म हवा इन Heat Fins से टकराती है, तो यह Fins उस नमी और गर्मी को Absorb कर लेते है, जिससे वह नमी इन Fins के सम्पर्क में आने से पानी में बदल जाती है। उस पानी को Water Drain Hose Pipe के द्वारा AC से बाहर निकाल दिया जाता है।

  • Compressor

Compressor को AC का दिल कहाँ जाता है। जब Evaporator से होकर Low Pressure Refrigerant कंप्रेसर में जाता है, तो Compressor उस गैस को संपीडित (Compress) कर देती है, जिससे उस गैस का Temperature और Pressure दोनों बढ़ जाता है। Compressor एक AC के अंदर Pump की तरह काम करता है, जो पुरे Air Conditioner System में Refrigerant के flow को सुचारु बनाये रखता है।

AC Kya Hai
  • Condenser

Condenser का मुख्य काम Compressor से आने वाली High Pressure Refrigerant की Heat को बाहर निकल कर Refrigerant को Gas से Liquid में बदलना होता है।

  • Expansion Valve

Expansion valve एक AC के अंदर Liquid Refrigerant के फ्लो को कंट्रोल करते है, तथा High Pressure Refrigerant को Low Pressure Refrigerant में बदलते है। अगर इसे आसान भाषा में समझे तो यह Liquid Refrigerant को Gas की Form में बदलता है, ताकि अधिक से अधिक गर्मी को Evaporator के द्वारा Absorb किया जा सके।

एक AC (Air Conditioner) के अंदर यह पूरा प्रोसेस तब तक चलता रहता है, जब तक उस कमरे का तापमान बदलकर वह कमरा ठंडा ना हो जाये। अब आप समझ गये होंगे की AC कैसे काम करता है?

AC में कौन सी गैस भरी जाती है? Which gas is filled in AC?

चलिए अब जानते है की AC में कौन सी गैस भरी जाती है? AC में भरी जाने वाली गैस को Refrigerant कहा जाता है, जिसे R से Denote करते है। जैसे R-22, R-32, R-410a इत्यादि, वैसे सामान्य तौर पर Air Conditioner में Freon गैस को भरा जाता है, जिसे CFCs या Chloro Fluoro Carbon कहते है। लेकिन अब इस गैस का प्रयोग ग्लोबल वार्मिंग के चलते ना के बराबर ही किया जाता है।

Window AC और Split AC में क्या अंतर है? What is the difference between Window AC and Split AC?

Window AC को इसके नाम के अनुसार खिड़की पर ही लगाया जाता है, इसका कुछ हिस्सा खिड़की के अंदर और बाकी का हिस्सा खिड़की के बाहर होता है। Window AC केवल खिड़की पर ही लग सकते है, इन्हे दीवार पर नहीं लगाया जा सकता है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

Split AC दो यूनिट में डिवाइड होता है, पहला होता है Out-Door और दूसरा होता है In-Door, इसमें In-Door यूनिट को घर के अंदर लगाया जाता है, और Out-Door यूनिट को छत पर या घर के बाहर लगाया जा सकता है। जहाँ Indoor और Outdoor यूनिट को एक पाइप लाइन के द्वारा एक दूसरे से जोड़ दिया जाता है।

  • AC में स्टार रेटिंग का क्या मतलब है? What is meant by star rating in AC?

अधिकतर आपने AC में स्टार रेटिंग को जरूर देखा होगा, जो 1 स्टार से लेकर 5 स्टार तक के बीच होती है। इसका सीधा संबंध उस AC को चलाने में खर्च होने वाली बिजली से होता है। अगर आप 1 टन का AC, 1 या 2 स्टार रेटिंग वाला खरीदते हैं, तो वह ज्यादा बिजली को खर्च करेगा और यदि आप 1 टन का एसी 4 या 5 स्टार रेटिंग वाला खरीदते हैं, तो वह कम बिजली को खर्च करेगा। जितनी रेटिंग अधिक होगी वह AC उतनी ही कम बिजली को खर्च करेगा।

  • 5 Star AC को एक घंटे तक चलने में 0.8 Units बिजली लगती है।
  • 3 Star AC को एक घंटे तक चलने में 0.96 Units बिजली लगती है।
  • 2 Star AC को एक घंटे तक चलने में 1.02 Units बिजली लगती है।

यदि 5 Star रेटिंग वाला AC एक दिन में 8 घंटे तक चलता है, तो वह एक दिन में 6.4 Units बिजली को खर्च करता है, जिससे वह एक Month में 192 Units बिजली को खर्च करेगा।

इन्वर्टर AC का क्या मतलब होता है? What is meant by Inverter AC?

इन्वर्टर AC का क्या मतलब होता है? इसके नाम से लगता है की यह इन्वर्टर पर चलता होगा। इन्वर्टर AC सामान्य AC की तुलना में 40% बिजली की बचत करता है, इसमें एक Variable स्पीड मोटर लगी होती है। जिसकी स्पीड अपने आप कम या ज्यादा होती रहती है, यह तापमान के हिसाब से ऑफ नहीं होती, बल्कि हमेशा ऑपरेटिंग मोड़ में बनी रहती है। कमरे के हिसाब से सेट किये हुऐ तापमान पर पंहुचने के बाद इसकी स्पीड अपने आप कम हो जाती है। 

इन्वर्टर AC को दोबारा स्टार्टिंग की जरूरत नहीं पड़ती, क्योकि कंप्रेसर स्टार्टिंग के समय ही सबसे अधिक करंट को ड्रा करता है। इंवर्टर AC का कंप्रेसर ऑफ मोड पर नहीं होता, इसलिए बिजली की बचत हो जाती है। इन्वर्टर AC सेट किये हुऐ तापमान को मेन्टेन रखता है, जबकि साधारण AC मे सेट किये हुऐ तापमान पर पहुँचने के बाद कंप्रेसर अपने आप बंद हो जाता है। दोबारा जब तापमान बढ़ने लगता है, तो कंप्रेसर फिर से स्टार्ट होता है, जिससे बिजली खपत ज्यादा होती है, और ये प्रकिया इसी प्रकार चलती रहती है।

AC का अविष्कार किसने किया था? Who invented AC?

एयर कंडीशनिंग सिस्‍टम को 1902 में एक युवा इलेक्ट्रिकल इंजीनियर विलिस हैविलैंड कैरियर द्वारा विकसित किया गया था। इसे ब्रुकलीन में स्थित सैकेट-विल्हेम्स लिथोग्राफिंग एंड पब्लिशिंग कंपनी के प्लांट में पेपर स्टॉक को नमी की समस्या से बचाने के लिये डिज़ाइन किया गया था।

AC Kya Hai

AC के फायदे क्या है? What are the advantages of AC?  

  • यह बिना किसी शोर-शराबे के ठंडक को प्रदान करता है, जिससे बिना Disturb हुऐ गर्मी से राहत पा सकते है।
  • यह आपको अच्छी Quality की ठंडी हवा प्रदान करता है।
  • इससे द्वारा आपको बिल्कुल Fresh Oxygen मिलती है।
  • यह टेम्प्रेचर को मेन्टेन रखता है, जिससे काम करना काफी आरामदायक हो जाता है।

AC के नुकसान क्या है? What are the disadvantages of AC?  

  • इसके अत्यधिक Use से मोटापा बढ़ता है, क्योकि ठंडी जगह पर हमारे शरीर की Energy खर्च नहीं होती, और शरीर की चर्बी बढ़ने लगती है।
  • AC से निकलने के बाद यदि आप Normal Temperature या गर्म जगह पर जाते है, तो इससे आपको बुखार भी आ सकता है।
  • AC में लगातार ज्यादा समय तक बैठने से शरीर में थकान होने लगती है।
  • AC का Temperature कम या ज्यादा करने से सिर में दर्द और चिड़चिड़ाहट भी हो सकती है।
  • AC की ठंड से Skin को नुकसान होता है, जिससे त्वचा की नमी कम होकर वह रुखी हो जाती है।

सबसे अच्छा एयर कंडीशनर कौन सा है? Which is the best air conditioner?

सबसे अच्छा AC कौन सा है?, सबसे कम बिजली कौन सा एसी खाता है? भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाला एसी कौन सा है? भारत का नंबर वन एसी कौन सा है? इन सभी questions को ध्यान में रखकर हमने आपके लिए यहाँ कुछ Air Conditioner के मॉडल और उनकी कीमत को बताया गया है। जो बिजली भी कम खर्च करते है, जहाँ से आप अपनी जरुरत और बजट के हिसाब से AC को खरीद सकते है। 
1.) LG 1.5 Ton 5-Star Inverter Split AC – KS-Q18YNZA (कीमत ₹ 39,499)
 
2.) Daikin 1.5 Ton 5-Star Inverter Split AC – FTKF50TV (कीमत ₹ 45,990)
 
3.) LG 1.5-Ton 3-Star Inverter Split AC – KS-Q18FNXD1 (कीमत ₹ 41,500)
 
4.) Blue Star 1.5 Ton 4.75-Star Split AC – BI-5CNHW18PAFU (कीमत ₹ 45,299)
 
5.) Samsung 1.5 Ton 5-Star Inverter Split AC – AR18NV5HLTRNNA (कीमत ₹ 45,299)
 
6.) Voltas 1.5 Ton 3-Star Inverter Split AC – 183V CZT/183 VCZT2 (कीमत ₹ 35,265)
 
7.) Carrier 1.5 Ton 4-Star Inverter Split AC – CAI18EK4C8F0 (कीमत ₹ 39,990)
 
8.) Daikin 1.5 Ton 4-Star Inverter Split AC – FTKP50TV (कीमत ₹ 41,790)
 
9.) LG 1.5 Ton 3-Star Inverter Split AC – Q18YNXA (कीमत ₹ 35,999)
 
10.) LG 1.5 Ton 3-Star Inverter Split AC – Q18CPXD2 (कीमत ₹ 36,990)
 

एयर कंडीशनर क्या है इससे सम्बंधित पूछे जाने वाले प्रश्न? 

एसी कितने पर चलाना चाहिए?

वैसे तो एसी Humidity के हिसाब से चलाया जाता है, अगर हवा में Humidity अधिक है तो आपको एसी 24 डिग्री के आसपास चलाना चाहिए।

एयर कंडीशनर कितने प्रकार के होते हैं?

एयर कंडीशनर को हम तीन भागों में बाट सकते हैं। Split AC, विंडो एसी और पोर्टेबल एसी।

एसी ठंडा क्यों नहीं करता?

यदि आपका एयर कंडीशनर ठंडा नहीं कर रहा है, तो उसके कंप्रेसर में खराबी हो सकती है। यदि एसी का कंप्रेसर खराब हो जाता है, तो वह ठंडा करने की प्रक्रिया को बंद कर देता है।

कूलिंग के लिए एसी का तापमान कैसे सेट करें?

इसके लिए ऊर्जा मंत्रालय ने यह रेकमंड किया है कि एसी की डिफ़ॉल्ट सेटिंग 24 डिग्री सेल्सियस पर रखनी चाहिए ताकि एनर्जी को बचाई जा सके।

एसी कौन सी गैस से चलता है?

एयर कंडीशनर के अंदर Freon गैस को भरा जाता है।

1 टन का एसी कितने वाट का होता है?

1 Ton मतलब 12000 BTU होता है। जब हम BTU को watt में बदलते है तो 12000 BTU लगभग 3516 watts के बराबर होता है। यानिकि 1 Ton=3516 watt.

एसी कितने किलो वाट का होता है?

5 स्टार रेटिंग: 1 टन = 1125 KWH/Units
1.5 टन = 1150 KWH/Units
3 स्टार रेटिंग: 1 टन = 1160 KWH/Units
1.5 टन = 1610 KWH/Units.

इनवर्टर एसी कितने वाट की होती है?

1 Ton इनवर्टर एसी लगभग 1200 watt का होता है।

एसी 1 घंटे में कितनी बिजली खाता है?

5 स्टार रेटिंग: 1 टन = 1125 KWH/Units
1.5 टन = 1150 KWH/Units
3 स्टार रेटिंग: 1 टन = 1160 KWH/Units
1.5 टन = 1610 KWH/Units.

1 महीने में एसी का बिल कितना आता है?

यदि आप 12 घंटे AC चलाते हैं तो वह लगभग 18 यूनिट बिजली की खपत करता है। आप 18 यूनिट को अपने क्षेत्र की बिजली की दरों से गुणा करके तय कर सकते हैं।

एसी का न्यूनतम तापमान 16 क्यों होता है?

ब्यूरो ऑफ़ एनर्जी एफिशिएंसी के अनुसार यदि AC को 16 से 18 डिग्री सेल्सियस तापमान पर रखते है, तो इसके शारारिक दुष्प्रभाव शुरू होने लगते हैं।

एसी का टेंपरेचर कितना रखना चाहिए?

इसके लिए ऊर्जा मंत्रालय ने यह रेकमंड किया है कि एसी की डिफ़ॉल्ट सेटिंग 24 डिग्री सेल्सियस पर रखनी चाहिए ताकि एनर्जी को बचाई जा सके।
 
अंत में  
 

हमे उम्मीद है, की यह लेख “AC (Air Conditioner) क्या है और यह काम कैसे करता है?” आपको जरूर पसंद आया होगा, हमने पूरा प्रयास किया है, आपको AC Kya Hai इससे सम्बंधित सही और पूरी जानकारी प्रदान करे। 

यदि आपको यह लेख AC Kya hai से सम्बंधित यदि आपके कोई सुझाव हो तो Comment Box में Comment करके हमे जरूर अवगत कराये। यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया है, तो इसे Social Media प्लेटफॉर्म जैसे – Facebook और Twitter इत्यादि पर जरूर शेयर करे। आपका धन्यवाद !

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है

HINDI WEB BOOK

HINDI WEB BOOK

हिंदी वेब बुक अपने प्रिय पाठकों को बहुमूल्य जानकारियाँ उपलब्ध कराने के लिये समर्पित है, हम अपने इस कार्य में उनके समर्थन और सुझाव की अपेक्षा करते है, ताकि हमारा यह प्रयास और बेहतर हो सके।

Leave a Comment

View More Post