रसोई घर के लिए के कुछ महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स। - HINDI WEB BOOK

रसोई घर के लिए के कुछ महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स।

रसोई घर के लिए के कुछ महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स।

Facebook
WhatsApp
Telegram

वास्तु शास्त्र को हिंदू धर्म के अनुसार वैज्ञानिक प्रणाली के आधार पर उचित पारंपरिक मानदंडों के अनुरूप बनाया गया वास्तुकला का एक रूप है। इसलिये इसे वास्तुकला के विज्ञान के रूप में भी जाना जाता है। यह हिन्दू धर्म पद्धति में हमेशा से माना जाता रहा है कि वास्तु सिद्धांतों के अनुसार बनायी गई रसोई उस घर में रहने वाले लोगों के लिए समृद्धि और स्वास्थ्य को आकर्षित करती है। 

एक भारतीय घर में, रसोई उस घर का सबसे अभिन्न हिस्सा होता है जहां लोग अपना अधिकांश समय और ऊर्जा खर्च करते हैं। किचन में उपस्थित सभी उपकरणो का वास्तु शास्त्र के अनुसार एक विशेष स्थान निश्चित होता है, और यदि इन्हे वास्तु के अनुसार रखा जाए तो यह घर के निवासियों के लिए बहुत लाभदायक सिद्ध होता है और उस घर में सकारात्मक ऊर्जा को सुनिश्चित करता है।

vastu tips for home kitchen in hindi

अच्छा स्वास्थ्य ही एक संतुष्ट जीवन जीने तथा सकारात्मक रहने की कुंजी है।वास्तु शास्त्र के अनुसार अग्नि देवता को ऊर्जा का रूप माना जाता है, और इनका स्थान दक्षिण-पूर्व दिशा में निश्चित होता है, जो इसे आपकी रसोई के लिए एक आदर्श स्थान बनाता है। इसका एक दूसरा विकल्प घर की उत्तर-पूर्व दिशा भी हो सकती है। 

आपको अपनी रसोई के लिए उत्तर, उत्तर-पूर्व और दक्षिण-पश्चिम दिशाओं से बचना चाहिए क्योंकि ये दिशाएं रसोई के वातावरण के लिए अच्छी नहीं होती हैं और परिवार के सदस्यों में असंतोष पैदा कर सकती हैं। ऐसे कई छोटे शक्तिशाली बिंदु हैं जो आपको अपने रसोईघर को बनाते समय वास्तु के अनुरूप बनाने के लिए अपने दिमाग में रखने चाहिए।

रसोई घर के लिए कुछ महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स। Some important Vastu tips for kitchen. 

हम हमेशा सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रकार की ऊर्जाओं से घिरे रहते हैं। वास्तु शास्त्र हमारे आस-पास की इन सभी ऊर्जाओं को संतुलित करने में मदद करता है। रसोई किसी भी घर का वह स्थान है जहाँ कच्चा और बिना पका हुआ भोजन पौष्टिक और स्वस्थ भोजन में परिवर्तित हो जाता है जो घर के सभी सदस्यों को ऊर्जा प्रदान करता है। 

भोजन से जो ऊर्जा प्राप्त होती है वह हमे सकारात्मक और संतुष्ट महसूस कराती है। हालांकि, अगर रसोई से निकलने वाली ऊर्जा में असंतुलन है, तो वही भोजन आपके अंदर नकारात्मक ऊर्जा को पैदा कर सकता है। जिससे आपका स्वास्थ्य पीड़ित हो सकता है, और आपके दिन के काम के साथ-साथ नतीजों को भी प्रभावित कर सकता है।

 

हम जिस प्रकार से भोजन की सामग्री को संग्रहीत करते है या रसोई में स्टोव को रखते है, यह सब भी हमारे आस-पास की ऊर्जाओं को प्रभावित करता है। इसलिए, रसोई घर में मौजूद इन सभी ऊर्जाओं को वास्तु शास्त्र के अनुसार संतुलित करना बहुत आवश्यक है।

वास्तु अनुसार नहीं बनी रसोई की समस्याएं – Kitchen problems not made according to Vastu 

स्वास्थ्य हानि – इस प्रकार बनी रसोई में खाना पकाने से स्वास्थ्य लाभ नहीं होता जिससे उस परिवार के लोगो में घातक रोग और असामयिक मृत्यु का भय रहता है। 

वित्तीय हानि – इससे परिवार की वित्तीय स्थिति बिगड़ती है।

पारिवारिक विवाद – इससे परिवार में अलगाव तथा सदस्यों के बीच विवाद बना रहता है।

vastu tips for home kitchen in hindi

रसोई के लिए महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स – Important Vastu Tips for Kitchen

आपको क्या नहीं करना चाहिए

  • पूजा / प्रार्थना कक्ष के नीचे या ऊपर रसोई को बनाने से सीधे बचें।

  • शौचालय के नीचे या ऊपर सीधे रसोई नहीं बनाना चाहिये।

  • बेडरूम के नीचे या ऊपर सीधे किचन नहीं बनाना चाहिये।

  • रसोई के बर्नर या स्टोव को सीधे रसोई घर के प्रवेश द्वार पर नहीं रखना चाहिये।

  • किसी भी कोने में रसोई का मुख्य दरवाजा न हो; इसे पूर्व, उत्तर या पश्चिम की दीवार में लगाएं।

  • नॉर्थ-ईस्ट में एक रसोई बनाने से परिवार के सदस्यों के बीच मानसिक तनाव होता है और उन्हें बहुत वित्तीय नुकसान होता है। 

  • दक्षिण-पश्चिम में रसोई होने से परिवार के सदस्यों के बीच टकराव की स्थिति बनती है।

  • उत्तर-पश्चिम दिशा में एक रसोई घर को बनाया जा सकता है लेकिन इससे मौद्रिक व्यय में वृद्धि होती है।

  • सबसे गलत रसोई घर उत्तर दिशा में होता है; उत्तर दिशा में धन के देवता भगवान कुबेर का वास होता है, उत्तर में रसोई होने से अपेक्षाओं और नियंत्रण से परे परिवार का खर्च बढ़ता जाता है।

  • खाना पकाने के दौरान कभी भी पश्चिम की ओर मुंह न करें क्योंकि इससे खाना पकाने वाले को गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं।

  • यदि खाना बनाते समय आपको दक्षिण दिशा का सामना करना पड़ता है तो इससे परिवार को मौद्रिक नुकसान का सामना करना पड़ता है।

  • रसोई की दीवार और फर्श के लिए काले रंग का प्रयोग करने से बचें।

  • नॉर्थ-ईस्ट दिशा में रेफ्रिजरेटर को रखने से बचें।

आपको क्या करना चाहिए:

  • पूर्व और दक्षिण-पूर्व कोने में ही रसोई के प्लेटफॉर्म को रखें।

  • रसोई घर के दक्षिण-पूर्व कोने में कुकिंग गैस बर्नर या स्टोव को रखें और यह सुनिश्चित करें कि यह दीवार से कुछ इंच की दूरी पर हो।

  • अपनी रसोई को “एल” आकार का मंच प्रदान करें, दक्षिण की दीवार के पास, रसोई के मुख्य मंच के बगल में, माइक्रोवेव ओवन, मिक्सर / ग्राइंडर आदि को रखने और संचालित करने के लिए इस मंच का उपयोग करें।

  • वॉश-बेसिन या किचन में सिंक करने के लिए नॉर्थ-ईस्ट दिशा का इस्तेमाल करें।

  • पीने के पानी और बर्तन के लिए उत्तर-पूर्व या उत्तर दिशा का प्रयोग करे।

  • अनाज के बक्से, दालें, विभिन्न मसाले, नमक आदि दक्षिण या पश्चिम दिशा में रखें।

  • किचन की पूर्व और पश्चिम दीवारों में दो खिड़कियां / गैप को रखें और किसी भी विंडो / गैप में एग्जॉस्ट फैन को लगाएं।

  • आप वैकल्पिक रूप से उत्तर-पश्चिम या रसोई घर के पश्चिम में खाने की मेज को रख सकते हैं।

  • किचन में पूर्व या उत्तर में हल्की वजन वाली चीजें को रखें।

  • पश्चिम या रसोई के दक्षिण में मेजेनाइन फर्श का निर्माण करें।

  • खाना बनाते समय रसोइये को हमेशा पूर्व की ओर मुंह करना चाहिए; यह परिवार के सदस्यों के अच्छे स्वास्थ्य को सुनिश्चित करता है।

  • रसोई के फर्श और दीवार के रंगों के रूप में पीले, नारंगी, गुलाबी, चॉकलेट या लाल रंग का उपयोग करें।

  • आप रेफ्रिजरेटर को दक्षिण-पूर्व, दक्षिण, पश्चिम या रसोई की उत्तर दिशा में रख सकते हैं। यदि रेफ्रिजरेटर दक्षिण-पश्चिम दिशा में है, तो इसे दीवार से एक फुट दूर रखें।

  • शांति और समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए रसोई में तैयार होने वाली पहली चीज़ को अग्नि देवता को भेंट दें।

  • रात को सोने से पहले रोजाना किचन, किचन प्लेटफॉर्म और बर्तन को साफ ​​करें।

यदि आप इन सभी उपरोक्त सुझावों का पालन करते हैं तो निश्चित रूप से आप अपने जीवन में एक बड़ा और सकारात्मक बदलाव निश्चित ही महसूस करेंगे।  

अंत में निष्कर्ष 

हमनें इस लेख के माध्यम से आपको “रसोई घर के लिए के कुछ महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स” के बारें में सम्पूर्ण जानकारी देने प्रयास किया गया है, हमे पूरी उम्मीद है यह जानकारी आपके लिये काफी उपयोगी साबित होगी यदि इस आर्टिकल से सम्बन्धित आपके पास कोई सुझाव हो तो कमेंट बाक्स के माध्यम से आप उसे हम तक पंहुचा सकते है। आप इस जानकारी को अपने दोस्तों और सोशल मिडिया पर जरूर शेयर करे। आपका धन्यवाद!

HINDI WEB BOOK

HINDI WEB BOOK

हिंदी वेब बुक अपने प्रिय पाठकों को बहुमूल्य जानकारियाँ उपलब्ध कराने के लिये समर्पित है, हम अपने इस कार्य में उनके समर्थन और सुझाव की अपेक्षा करते है, ताकि हमारा यह प्रयास और बेहतर हो सके।

Leave a Comment

View More Post