Keyword Density क्या होती है, यह SEO को कैसे प्रभावित करती है? - HINDI WEB BOOK

Keyword Density क्या होती है, यह SEO को कैसे प्रभावित करती है?

Keyword Density क्या होती है, यह SEO को कैसे प्रभावित करती है?

Facebook
WhatsApp
Telegram

Keyword Density क्या है और यह SEO को कैसे प्रभावित करती है? जो लोग वेबसाइट/ब्लॉग पैर काम करते है उन्हें keyword density को समझना बहुत जरुरी है। Keyword density सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO) के लिए बहुत जरुरी है। क्योंकि यह Search Engine के परिणाम पृष्ठों (SERP) पर आपकी वेब साइट की सामग्री पर सीधा प्रभाव डालती है और साथ ही इसका प्रभाव आपके ऑनलाइन मार्केटिंग अभियान पर भी पड़ता है।

Keyword Density क्या होती है
 

हालाँकि, Google सहित अधिकांश Search Engine के रैंकिंग एल्गोरिदम में Keyword density का सापेक्ष महत्व पिछले कुछ वर्षों में बदल गया है, इसलिए यह समझना विशेष रूप से महत्वपूर्ण हो गया है कि Keyword Density क्या है यह SEO को कैसे प्रभावित करता है? 

यह पोस्ट आपको यह बताएगी की Keyword density को सही तरीके से उपयोग करने के लिए कौन से बेसिक फॉर्मूला और टिप्स हैं। इस तरह से आप पूरी तरह से कस्टमाइज कंटेंट का लाभ उठा सकते हैं और SEO के लिए जरुरी तकनीकों से जुड़ी परेशानियों से भी बच सकते हैं।

Keyword Density क्या है? What is keyword density in hindi?

Keyword Density क्या होती है? Keyword density कीवर्ड ऑप्टिमाइज़ेशन का एक पार्ट है जो वेबपेज/ब्लॉग पोस्ट में उपयोग किए जाने वाले Targeted Words की संख्या का प्रतिशत होता है। यह आर्टिकल के अंदर प्रयोग होने कुल शब्दों की संख्या के आधार पर Targeted Keywords के उपयोग होने की संख्या को दिखता है। यह एक संकेत है जिसे एक सर्च इंजन यह निर्धारित करने के लिए उपयोग करता है कि Particular वेब कंटेंट का कोई हिस्सा किसी विशेष कीवर्ड या लाइन से संबंधित है या नहीं।

Keyword Density को कैसे कैलकुलेट करें? How to calculate keyword density?

Keyword Density को कैसे कैलकुलेट करते है? किसी भी आर्टिकल में Keyword के डेंसिटी को कैलकुलेट करना काफी आसान है। बस आप एक आर्टिकल पर दिखाई देने वाले Targeted Keywords की संख्या को ले और इसे उस आर्टिकल के कुल शब्दों की संख्या से डिवाइड कर दे।

targeted keyword / आर्टिकल पर दिखाई देने वाले शब्दों की संख्या

= keyword density 

इसे हम एक उदाहरण से समझते है:

वेबसाइट hindiwebbook.com ने डिजिटल मार्केटिंग के बारे में एक वेबपेज को प्रकाशित किया है। यह वेब पेज एक keyword “डिजिटल मार्केटिंग” को टारगेट करता हैं, जिसका उपयोग आर्टिकल में 20 बार किया गया हैं, और उस आर्टिकल में कुल 1,000 शब्द हैं।

20 (“डिजिटल मार्केटिंग” वेब पेज पर प्रदर्शित होने वाला कीवर्ड) / 1000 (वेबपेज पर शब्दों की कुल संख्या) = 2% (Keyword density)

20 ÷ 1000×100 = 2%

कीवर्ड डेंसिटी SEO को कैसे प्रभावित करती है? How does keyword density affect SEO?

दुर्भाग्य से, कोई keyword किसी आर्टिकल में कितनी बार प्रदर्शित होना चाहिए, इसके लिए कोई नियम निर्धारित नहीं है। सर्च इंजन target keywords का प्रतिशत कितना होना चाहिए इसका खुलासा नहीं करते हैं, इसलिए आपको इसे सही से समझने के लिए अपने विवेक और सर्वोत्तम तकनीकों का उपयोग करना चाहिए।

क्योकि अधिकांश SEO Experts का यह मानना ​​है कि कीवर्ड के लिए ideal density लगभग 1-2% ही होना चाहिए। इसका मतलब यह है कि target keyword प्रति 100 शब्दों में लगभग एक या दो बार आना चाहिए। यह प्रतिशत बिना keyword stuffing को शामिल किए सर्च इंजन में दिखाने देने के लिए पर्याप्त है।

SEO के लिए सही कीवर्ड डेंसिटी क्या है? What is the Right Keyword Density for SEO?

SEO के लिए सही keyword density क्या इसके लिए कोई “नियम” स्पष्ट रूप से परिभाषित नहीं हैं। आपको Google से कोई ऐसी कोई ट्रिक नहीं मिलेगी जो आपको यह स्पष्ट रूप बताए कि कंटेंट के एक हिस्से में कितने targeted keyword होने चाहिए, या फिर इसके लिए कोई ऐसा विशिष्ट आंकड़े हो जिन पर आप भरोसा कर सके, कि आपकी साइट/वेबपेज पर कितने keyword प्रदर्शित होने चाहिए।

हालांकि, कुछ ऐसी तकनीके हैं जिनके द्वारा आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपके कंटेंट को SEO के हिसाब से Customized किया गया है जो आपके कंटेंट की विजिबिलिटी को बढ़ा सकता है और आपके विजिटर के अनुभव को बेहतर बना सकता है।

SEO के लिए Keyword Density Techniques 

क्योंकि सर्च इंजन के द्वारा भी कोई स्पष्ट तकनीक नहीं जो यह डिफाइन कर सके की perfect keyword density क्या है, इसके लिए आपको keyword customization के लिए सर्वोत्तम अभ्यास से चिपके रहने के बजाय केवल एक विशिष्ट keyword डेंसिटी प्रतिशत पर टिके रहना चाहिए।

अपने कंटेंट में keyword density तक पहुंचने के सही तरीके के लिए निम्नलिखित रणनीतियों का उपयोग करना चाहिए। याद रखें कि कंटेंट सबसे पहले सर्वश्रेष्ठ पाठकों के लिए बनाया जा रहा है। इसलिए स्वाभाविक रूप से टाइप करें, और अपने कंटेंट में animated keywords का उपयोग करें। जब आप लिखना समाप्त कर लें, तो यह देखें कि आप अपने आर्टिकल में लगभग 1-2% के keyword density तक पहुंचने के लिए keyword जोड़ सकते हैं या नहीं।

  • Stemming Keywords का प्रयोग करें

Keyword stemming, सर्च इंजन की एक target keywords से जुड़े समान शब्दो को पहचानने और संबद्ध करने की क्षमता को डिफाइन करता है। आमतौर पर, keyword stemming, target keywords में एक Prefix, Suffix या Plurals को जोड़ता है। उदाहरण के लिए, “प्रोजेक्ट मैनेजर” के keywords stemming के लिए “प्रोजेक्ट मैनेजरस” या “प्रोजेक्ट मैनेजिंग” हो सकते हैं। चूंकि सर्च इंजन इन शब्दों को पहचानते हैं और उन्हें Co-relate करते हैं, इसलिए अपने कंटेंट में अलग अलग टेक्स्ट को जोड़ते समय अपने targeted keywords को सपोर्ट करने के लिए अपने कंटेंट में इनका उपयोग करें।

  • Meaningful कीवर्ड का उपयोग करें

Semantic keywords ऐसे शब्द हैं जो समान अर्थ वाले शब्द या target keywords से संबंधित होते हैं। ये शब्द उनके अर्थ के कारण से संबंधित होते हैं। उदाहरण के लिए, stemming keywords को targeted keywords “परियोजना प्रबंधक” के लिए उपयोग करते हैं, जहां हम “परियोजना प्रबंधन” या “प्रबंधन परियोजनाएं” को शामिल कर सकते हैं। वेबपेज/आर्टिकल को समझने और रैंक करने के लिए सर्च इंजन semantic SEO का उपयोग करते हैं, इसलिए Relevant कीवर्ड खोजें और अपने on-page SEO काे सपोर्ट करने के लिए अपने कंटेंट में उनका उपयोग करें।

  • Keyword Stuffing से बचें

एक बार जब आप अपने कंटेंट को पूरा कर लेते हैं, तो उसे पब्लिश करने से पहले keyword density और on-page SEO फैक्टर की जांच करने के लिए on-page SEO की चेकलिस्ट का उपयोग करें। सर्च रिजल्ट में आने के लिए यह सुनिश्चित करें कि आपने अपने आर्टिकल में पर्याप्त targeted keywords का उपयोग किया है या नहीं, जिससे कीवर्ड इंजीनियरिंग के द्वारा सर्च इंजन यह जान सके की आपका कंटेंट किस बारे में है। अधिक keywords का उपयोग keyword stuffing को आमंत्रण देता है, जिससे आप search penalty का जोखिम उठा सकते है, इसलिए इसका ध्यान रखे।

  • Keywords का सही इस्तेमाल करे 

Keywords को अपने कंटेंट में बार-बार repeat नहीं करना चाहिए। keyword density को 2% के आस-पास ही रखने का प्रयास करें। साथ ही अपने targeted keywords को सही जगह पर ही इस्तेमाल करें। इनकी सही जगह है –

  • Title Tag में (टाइटल के शुरुआत में)
  • Permalink में
  • H1 और H2 Tag में
  • आर्टिकल के शुरुआत पेरग्राफ में
  • आर्टिकल के अंतिम पेराग्राफ में
  • Meta description में
  • Image के alt tag में 

Free Keyword Density Checker Tools कौन से हैं?

  • Smallseotools.com
  • Tools.seobook.com
  • Prepostseo.com
  • Thehoth.com
  • SEOreviewtools
  • SEOBook
  • Visiospark
  • Duplicheaker
  • Internetmarketingninjas
 

TF-IDF क्या है? What is TF-IDF?

Search word density को मापने का एक अधिक उन्नत तरीका, TF-IDF “Word Frequency and Verse Document Frequency” है। इन आँकड़ों का उपयोग हमेशा डेटा पुनर्प्राप्ति या टेक्स्ट माइनिंग में यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है कि किसी दस्तावेज़ के लिए दिया गया शब्द कितना महत्वपूर्ण है। TF-IDF रूपांतरों का उपयोग कुछ मामलों में सर्च इंजन द्वारा उपयोगकर्ता की search query में किसी पृष्ठ की सामग्री की प्रासंगिकता को standardize करने के लिए किया जा सकता है, लेकिन हमेशा की तरह, इसके साथ कई अन्य SEO कारक भी प्रयोग में आते हैं।

Keyword Stuffing क्या है? What is Keyword stuffing?

लगभग 10 साल पहले, जब SEO एक उभरता हुआ विषय था, “keyword stuffing” नामक एक तकनीक बहुत लोकप्रिय हो गई थी। keyword stuffing एक वेबपेज पर अधिक से अधिक target keywords का उपयोग करने का एक तरीका है, अक्सर इससे पाठक एक प्रकार का दबाव और असहजता महसूस करता है।

सामान्य तौर पर, यह वेबपृष्ठों के निचले भाग में लंबे footers को शामिल करके प्राप्त किया जाता है, जिसमें सामान्य keywords के दर्जनों – या सैकड़ों प्रकार शामिल होते है। इस तकनीक को अक्सर होटल वेबसाइटों पर देखा जाता है, जिसमें अक्सर हाइपरलिंक्ड keywords वाले footers होते थे: उदाहरण के लिए “सस्ता होटल नई दिल्ली”, “सस्ते होटल नई दिल्ली”, “सस्ता होटल रूम नई दिल्ली”।

यद्यपि इनका प्रयोग आज असामान्य लग सकता है, लेकिन इस तकनीक ने stuffing keywords के लिए google परिणामों के पहले पृष्ठ पर रैंक करने का एक आसान तरीका प्रदान किया था जिसकी आप कल्पना कर सकते हैं। उस समय, google के एल्गोरिदम अभी तक इन कीवर्ड-भरवां पृष्ठों की व्याख्या करने के लिए पर्याप्त रूप से व्यवस्थित नहीं थे और इसलिए ये पृष्ठ आमतौर पर बहुत उच्च रैंक करते थे।

लेकिन आज google अपने सर्च एल्गोरिदम में जिन विशिष्ट कारकों का उपयोग करता है – उन्हें अक्सर “रैंकिंग सिग्नल” के रूप में संदर्भित किया जाता है – जो google की एक बहुत रहस्यमय तकनीक है, लेकिन अब हम यह जानते हैं कि google उन सभी साइटों को दंडित करता है जो low content में keyword stuffing का उपयोग करता हैं। इसलिए, आपको अपने वेब पेजों पर शब्दों की अधिक से अधिक बारंबारता को क्रॉल करने से बचना चाहिए, क्योंकि इसका परिणाम ठीक इसके विपरीत प्रभाव डालता है।

Keyword Density की जांच कैसे करें? How to check keyword density?

आप अपने keyword उपयोग और शब्दों की कुल संख्या की गणना करके और उपरोक्त सूत्र का उपयोग करके मैन्युअल रूप से keyword density का परीक्षण कर सकते हैं। या आप अपने वर्डप्रेस पोस्ट एडिटिंग पेज में keyword density की जांच के लिए Yoast SEO Plugin जैसे टूल का उपयोग कर सकते हैं। लेकिन ब्लॉगर वेबसाइट में ऐसी सुविधा नहीं होती। 

एक बार आपका पेज लाइव हो जाने के बाद, आप Alexa के On-Page SEO चेकर का उपयोग करके अपने पेज पर अंतिम जांच कर सकते हैं ताकि Keyword के उपयोग की समीक्षा की जा सके और सुनिश्चित किया जा सके कि पेज टारगेट टाइम लाइन के लिए पूरी तरह Perfect है।

अंत में निष्कर्ष 

हमनें इस लेख के माध्यम से आपको “Keyword Density क्या होती है और यह SEO में कैसे काम करती है?” के बारें में सम्पूर्ण जानकारी देने प्रयास किया गया है, हमे पूरी उम्मीद है यह जानकारी आपके लिये काफी उपयोगी साबित होगी यदि इस आर्टिकल से सम्बन्धित आपके पास कोई सुझाव हो तो कमेंट बाक्स के माध्यम से आप उसे हम तक पंहुचा सकते है। आप इस जानकारी को अपने दोस्तों और सोशल मिडिया पर जरूर शेयर करे। आपका धन्यवाद!

HINDI WEB BOOK

HINDI WEB BOOK

हिंदी वेब बुक अपने प्रिय पाठकों को बहुमूल्य जानकारियाँ उपलब्ध कराने के लिये समर्पित है, हम अपने इस कार्य में उनके समर्थन और सुझाव की अपेक्षा करते है, ताकि हमारा यह प्रयास और बेहतर हो सके।

Leave a Comment

View More Post