जाने Pegasus Spyware कैसे आपके मोबाइल फ़ोन को Infect करता है। - HINDI WEB BOOK

जाने Pegasus Spyware कैसे आपके मोबाइल फ़ोन को Infect करता है।

Pegasus Spyware

जाने Pegasus Spyware कैसे आपके मोबाइल फ़ोन को Infect करता है।

Facebook
WhatsApp
Telegram

Pegasus Spyware इजरायली साइबर इंटेलिजेंस फर्म NSO ग्रुप द्वारा बनाया गया एक निगरानी सॉफ्टवेयर है, जो आपके मोबाइल फोन को Infect करता है। जिसके लिये कंपनी द्वारा यह दावा किए गया की Pegasus Spyware सॉफ्टवेयर का उद्देश्य केवल अपराध और आतंकी कृत्यों को रोकने तथा आम लोगो के जीवन को बचाने के लिए था।

Pegasus Spyware अब तक का सबसे फेमस और सबसे खतरनाक स्पाइवेयर है, जिसे इजराइल ने बनाया है और इसका नाम Pegasus रखा है। Pegasus एक उड़ने वाले घोड़ा को कहा जाता है। इजराइल कंपनी NSO ग्रुप ने यह दावा किया है, Pegasus Spyware सॉफ्टवेयर की मदद से कई ऐसी आतंकवादि गतिविधियों का पता चला है जिन्हे समय रहते ही आतंकी घटनाओं को अंजाम देने से रोक दिया है।
 

Pegasus Spyware की बड़ी और खतरनाक बात यह है, कि यह सॉफ्टवेयर एंड्रॉयड और आईओएस दोनों तकनीकियों पर काम करता है। जबकि ऐसा माना जाता है कि एंड्रॉयड के तुलना में, आईओएस आईफोन वाली तकनीक ज्यादा सिक्योर होती है। लेकिन यह दोनों तकनीकों पर बराबर काम करता है, Pegasus Spyware केवल एक सिंगल क्लिक पर इन्टॉल हो जाता है। यानिकि आपके पास कोई मेल/लिंक आया और आपने उस क्लिक कर दिया तो वह ऑटोमेटिक आपके मोबाइल के पुरे सॉफ्टवेयर सिस्टम को कण्ट्रोल कर लेगा।

Pegasus Spyware मोबाइल फोन को कैसे Infect करता है?

संगठित अपराध और भ्रष्टाचार रिपोर्टिंग परियोजना (OCCRP) की रिपोर्ट के अनुसार है, जैसे-जैसे आम लोग इन सभी तकनीकियों के बारे में अधिक जागरूक होते जा रहे है। तब से Pegasus Spyware तरह के दुर्भावनापूर्ण स्पैम को बेहतर ढंग से पहचानना काफी सरल हो गया है, इसी तरह की समस्याओ से निपटने के लिए ही Zero-Click Solution की खोज की गई है।

Pegasus Spyware के लिए अब आपको अपने डिवाइस से समझौता करने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योकि यह तकनीक अपने लक्ष्य पर कुछ भी करने पर निर्भर नहीं करती है। Zero-Click तकनीक केवल उन बग/पॉप अप को Exploit करती है, जो iMessage, WhatsApp और FaceTime जैसे लोकप्रिय ऐप में अज्ञात सोर्स से आते हैं।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है

क्योकि एक बार एंट्री मिलने के बाद, Pegasus Spyware किसी भी ऐप के प्रोटोकॉल का उपयोग करके डिवाइस में घुसपैठ कर सकता है। इसलिए यूजर को किसी लिंक पर क्लिक करने, संदेश पढ़ने या कॉल का उत्तर देने की आवश्यकता नहीं है – हो सकता है कि उन्हें कोई मिस्ड कॉल या संदेश भी दिखाई न दे।

Pegasus Spyware जीमेल, फेसबुक, व्हाट्सएप, फेसटाइम, वाइबर, वीचैट, टेलीग्राम और ऐप्पल के इनबिल्ट मैसेजिंग/ईमेल ऐप में iMessaging सिस्टम के तहत जुड़ता है। Pegasus Spyware लाइन-अप के साथ, लगभग पूरी दुनिया की आबादी की जासूसी की जा सकती है। अमेरिकी खुफिया एजेंसी के एक पूर्व साइबर इंजीनियर टिमोथी समर्स के अनुसार यह स्पष्ट है कि NSO एक खुफिया-एजेंसी-ए-ए-सर्विस की पेशकश कर रहा है,”।

Pegasus Spyware द्वारा मोबाइल इन्फेक्ट से सम्बंधित रिपोर्ट।

Zero-Click के अलावा, OCCRP ने किसी भी उपकरण को चुपचाप एक्सेस करने के लिए “नेटवर्क इंजेक्शन” नामक एक अन्य तकनीक को रिपोर्ट किया है। इसके लिए किसी भी टार्गेटेड वेब ब्राउज़िंग को विशेष रूप से डिज़ाइन करके उसे दुर्भावनापूर्ण लिंक के साथ उस पर क्लिक करने की आवश्यकता के बिना, हमला करने के लिए खुला छोड़ दिया जाता है। 

इस दृष्टिकोण से ऐसी किसी भी वेबसाइट पर जाने के लिए आपकी सामान्य ऑनलाइन गतिविधि पूरी तरह से सुरक्षित नहीं है। एक बार जब भी कोई यूजर किसी असुरक्षित साइट के लिंक पर क्लिक करता हैं, तो एनएसओ समूह का सॉफ्टवेयर Pegasus Spyware उसके जरिये आपके फोन तक पहुंच सकता है और मोबाइल इन्फेक्ट को ट्रिगर कर सकता है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल की एक रिपोर्ट के अनुसार एनएसओ ग्रुप के Pegasus Spyware ने नए आईफोन मॉडल, जिसमे विशेष रूप से आईफोन 11 और आईफोन 12 को आईमैसेज जीरो-क्लिक अटैक के द्वारा इन्फेक्ट कर दिया था। Pegasus Spyware एक आईफोन में डाउनलोड किए गए एप्लिकेशन का प्रतिरूपण भी कर सकता है और ऐप्पल के सर्वर के माध्यम से खुद को पुश नोटिफिकेशन के रूप में ट्रांसमिट भी कर सकता है। एक अनुमान के अनुसार एनएसओ के Pegasus Spyware द्वारा हजारों की संख्या में आईफोन हैंडसेट को संभावित रूप से इंफेकटेड किया गया है।

इस सम्बन्ध में Kaspersky का कहना है कि Android के लिए Pegasus जीरो-क्लिक पर निर्भर नहीं करता है। इसके बजाय, यह Framaroot नामक एक प्रसिद्ध रूटिंग विधि का उपयोग करता है। इसमें एक एक अंतर यह है, यदि आईओएस संस्करण डिवाइस को जेलब्रेक करने में विफल रहता है, तो Pegasus Spyware का पूरा हमला विफल हो जाता है।

लेकिन एंड्रॉइड संस्करण के साथ, भले ही मैलवेयर एक निगरानी सॉफ़्टवेयर को स्थापित करने के लिए एक आवश्यक रूट एक्सेस को प्राप्त करने में विफल रहता हो, तब Pegasus Spyware सीधे रूप में यूजर से अनुमति के लिए पूछने का प्रयास करेगा। इसके लिए यह यूजर को कम से कम कुछ डेटा/इनफार्मेशन को देने का प्रयास करेगा।

Pegasus Spyware का पता लगाने का तरीका है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल के शोधकर्ताओं ने इसे जांचने के लिए एक टूल को विकसित किया है, जिससे या पता लगाया  जा सके कि कहीं आपका फोन Pegasus Spyware से इंफेकटेड तो नहीं हो गया है। मोबाइल वेरिफिकेशन टूलकिट (MVT) जिसका उद्देश्य यह पहचानने में मदद करना है कि क्या Pegasus Spyware ने आपके डिवाइस को इन्फेक्ट किया है, या नहीं। हालांकि यह एंड्रॉइड और आईओएस दोनों डिवाइसों पर काम करता है, लेकिन इसके लिए कुछ कमांड लाइन नॉलेज टॉप ऑपरेट की आवश्यकता होती है। हालांकि, MVT समय के साथ ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (GUI) को प्राप्त कर सकता है।

अंत में निष्कर्ष

इस लेख के माध्यम से हमने आपको “जाने Pegasus Spyware कैसे आपके मोबाइल फ़ोन को Infect करता है।” के बारे में पूरी जानकारी देने का प्रयास किया है, हमें पूरी उम्मीद है कि अगर आपके पास इस लेख से संबंधित कोई जानकारी है तो यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। अगर कोई सुझाव है तो आप कमेंट बॉक्स के जरिए हम तक पहुंच सकते हैं। आप इस जानकारी को अपने दोस्तों और सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें। धन्यवाद!

HINDI WEB BOOK

HINDI WEB BOOK

हिंदी वेब बुक अपने प्रिय पाठकों को बहुमूल्य जानकारियाँ उपलब्ध कराने के लिये समर्पित है, हम अपने इस कार्य में उनके समर्थन और सुझाव की अपेक्षा करते है, ताकि हमारा यह प्रयास और बेहतर हो सके।

Leave a Comment

View More Post