तुलसी के चमत्कारी गुण और फायदे क्या है? - HINDI WEB BOOK

तुलसी के चमत्कारी गुण और फायदे क्या है?

तुलसी के चमत्कारी गुण और फायदे क्या है?

Facebook
WhatsApp
Telegram

तुलसी के चमत्कारी गुण और फायदे क्या है? तुलसी को भारत में सबसे पवित्र माना जाता है यह एक ऐसा पौधा है जो प्राय सभी घरो में मिलता है। तुलसी को जहां एक तरह से पूजा जाता है वही दूसरे रूप में यह एक औषधि भी है। तुलसी Lamiaceae परिवार की एक प्रमुख ज्ञात जड़ी बूटी है। यह प्रमुख रूप से भारत में ही पाई जाती है इसके आलावा पूरे दक्षिण पूर्व एशिया में इसकी खेती भी की जाती है।

tulsi ke chamatkari gun aur fayde

तुलसी हमारे शरीर के मुख्य हिस्सों जैसे दिल, लीवर, त्वचा, किडनी आदि के विभिन्न प्रकार संक्रमणों और बीमारियों से बचाने में अत्यधिक कारगर साबित हुई है इस कारण से ही तुलसी को सही मायने में ‘जड़ी-बूटियों की रानी’ कहा जाता है।

तुलसी के चमत्कारी गुण और फायदे क्या है? What are the miraculous properties and benefits of Tulsi?  

तुलसी का आयुर्वेद के साथ-साथ भारत में रह रहे हिंदुओं के घर में भी एक विशेष स्थान है। इसे हिंदु धर्म में सबसे पवित्र माना जाता है और इसकी देवी देवताओ के सामान ही पूजा की जाती है। भारत में मुख्यत तुलसी के तीन प्रकार मिलते हैं:

  • राम तुलसी जिसके चमकीले हरे पत्ते होते है। 

  • हरित कृष्ण जिसकी हरी पत्तियां होती है। 

  • आम जंगली तुलसी जिसे वन तुलसी भी कहते है।

तुलसी के फायदे क्या है? What are the benefits of Tulsi?

तुलसी के पत्तो में विटामिन A, C, K कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, लोहा और पोटेशियम जैसे मुख्य खनिज पाये जाते हैं। इसके आलावा इसमें प्रोटीन और फाइबर भी अच्छी मात्रा में पाया है।

  • तुलसी एक प्राकृतिक प्रतिरक्षा बूस्टर

तुलसी में विटामिन C और जिंक होता है। जो हमारे शरीर के लिये एक प्राकृतिक रूप से प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में कार्य करता है और संक्रमण को दूर रखता है। तुलसी में काफी मात्रा में एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल और एंटी-फंगल गुण मौजूद होते हैं जो हमें हमारी कई प्रकार के संक्रमणों से रक्षा करते हैं। तुलसी के पत्तों का रस हमारे शरीर की कोशिकाओं और प्राकृतिक रक्षात्मक कोशिकाओं की गतिविधि को बढ़ाता है, इसके साथ ही यह हमारे Immune System को भी बढ़ाता है। 

  • तुलसी एक ज्वर और दर्द नाशक

तुलसी में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण पाये जाते हैं जो संक्रमण से लड़ने में हमारी मदद करते हैं, जिससे बुखार कम होता है। तुलसी का ताजा रस काली मिर्च पाउडर के साथ मिलाकर पिने से आवधिक बुखार को ठीक करने में मददगार होती है। इसके आलावा आधा लीटर पानी में इलायची के साथ तुलसी के पत्तो को उबाल कर इसमें चीनी और दूध को मिलाकर पिने से तापमान को कम करने में काफी फायदेमंद होता है। तुलसी में पाया जाने वाले युजेनॉल एक दर्द निवारक तत्व होता है जो शरीर में हो रहे दर्द को कम करता है।

  • सर्दी खासी में फायदा 

तुलसी सर्दी, खांसी के साथ अन्य श्वसन संबधी विकार को भी कम करता है। तुलसी में मौजूद कैफीन, सिनेोल और यूजेनॉल छाती में हो रही ठंड और जमाव को कम करने में मदद करती है। तुलसी के पत्तों का रस शहद और अदरक के साथ मिलाकर पीने से ब्रोंकाइटिस, अस्थमा, इन्फ्लूएंजा, खांसी और जुकाम में असरकारक फायदा होता है।

  • तनाव और रक्तचाप को कम करता है

तुलसी में Ocimumosides A और B गुण पाये जाते है। जो तनाव को कम करने में मदद करते हैं और हमारे मस्तिष्क में मौजूद न्यूरोट्रांसमीटर सेरोटोनिन और डोपामाइन को संतुलित करते हैं। तुलसी के Anti-Inflammatory गुण हमारे शरीर की सूजन और रक्तचाप को नियत्रित करते हैं।

tulsi ke chamatkari gun aur fayde

  • तुलसी के कैंसर विरोधी गुण

तुलसी के अंदर मौजूद फाइटोकेमिकल्स तत्वों में काफी मजबूत एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। जो हमारी त्वचा, यकृत, मुँह और फेफड़ों को कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचाने में मदद करते हैं।

  • दिल की सेहत के लिए फायदेमंद 

तुलसी का सेवन हमारे ब्लड लिपिड कंटेंट को कम करने में मदद करता है, तथा इसके साथ इस्केमिया और स्ट्रोक की सम्भावना को कम करने, उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने का काम करती है इसमें मौजूद उच्च एंटीऑक्सिडेंट हमारे हृदय से सम्बंधित रोगों के उपचार व इनकी रोकथाम में काफी असरदार होती है।

  • मधुमेह के रोगियों के लिए फायदेमंद 

तुलसी की पत्तियों का रस टाइप 2 मधुमेह के रोगियों में Blood Sugar के स्तर को कम करता है। इसका नियमित सेवन Blood Sugar को कण्ट्रोल करने में मदद करता है।

  • गुर्दे की पथरी और गाउटी (Gouty) गठिया में उपयोगी

तुलसी हमारे शरीर को डिटॉक्स करती है तथा वेस्ट पदार्थो को बहार निकालने में साहयक होती हैं। यह शरीर में यूरिक एसिड के स्तर को नियंत्रित करती है, जिससे गुर्दे की पथरी बनने की सम्भावना बहुत कम रहती है। यूरिक एसिड के स्तर में कमी से गाउट से पीड़ित रोगियों को भी राहत मिलती है।

  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकारों में उपयोगी

तुलसी के पत्ते पाचन क्रिया और भूख की कमी को ठीक करने में मदद करते हैं। तुलसी का प्रयोग पेट फूलना और सूजन के उपचार के लिए भी किया जाता है।

  • त्वचा और बालों के लिए फायदेमंद

तुलसी का प्रयोग हमारे शरीर से Blemishes और मुँहासे को Cure करने में मदद करता है। यह एंटीऑक्सिडेंट गुणों से समृद्ध होती है, जिससे यह समय से पहले उम्र को बढ़ने से रोकने में भी मदद करती है। तुलसी हमारी बालों की जड़ों को भी मजबूत करती है, इस प्रकार बालों के झड़ने को रोकती है। तुलसी के एंटीफंगल गुण कवक और रूसी के विकास को भी रोकते हैं।

  • तुलसी एक कीट विकर्षक के रूप में कार्य करता है

सदियों के समय में तुलसी के सूखे पत्तों को अनाज के साथ मिलाया जाता है। जिससे अनाज के अंदर किसी भी प्रकार के कीड़े नहीं लगते तथा वह सुरक्षित रहता है।

तुलसी का सेवन किस प्रकार करें? How to consume Tulsi?

तुलसी के पत्तों का कच्चा भी सेवन कर सकते है, इसके अतिरिक्त आप इसे अपनी चाय में डालकर इसका प्रयोग कर सकते है।

तुलसी की चाय: तुलसी की चाय बनाने के लिए, सबसे पहले एक बर्तन में 1 कप पानी को डालकर उसे उबालें और फिर इसमें 1 चम्मच ताजा तुलसी के पत्ते, 1/2 चम्मच तुलसी के सूखे पत्ते या इसमें 1/3 चम्मच तुलसी का पाउडर डालें। अब इसे एक बर्तन से कवर कर दे और इसे 15-20 मिनट तक ऐसे ही रहने दें। फिर इसमें शहद को मिलाकर इसे पिये। इसके लिये आपको तुलसी का पाउडर और इसके सप्लीमेंट्स भी बाजार में आसानी से मिल जाएँगे। 

तुलसी के सेवन के साइड इफेक्ट्स क्या है? What are the side effects of consuming Tulsi?  

तुलसी का सेवन उन महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है जो गर्भधारण की कोशिश कर रही हैं। इसके सेवन से कुछ लोग मतली या दस्त का अनुभव करते हैं। जब भी आप तुलसी को अपनी चाय या अपने आहार में शामिल करे तो आपको इसकी सबसे छोटी मात्रा के साथ ही इसकी शुरुआत करनी चाहिये और फिर समय के साथ साथ ही अपनी सेवन करने की क्षमता को बढ़ाएं।

तुलसी Blood Sugar को कम कर सकती है और इसका उपयोग उन लोगों में सावधानी के साथ किया जाना चाहिए जिन्हें मधुमेह है और वह पहले से ही Blood Sugar को कम करने वाली दवा ले रहे है।

अंत में निष्कर्ष

हमनें इस लेख के माध्यम से आपको “तुलसी के चमत्कारी गुण और फायदे क्या है?” के बारें में सम्पूर्ण जानकारी देने प्रयास किया गया है, हमे पूरी उम्मीद है यह जानकारी आपके लिये काफी उपयोगी साबित होगी यदि इस आर्टिकल से सम्बन्धित आपके पास कोई सुझाव हो तो कमेंट बाक्स के माध्यम से आप उसे हम तक पंहुचा सकते है। आप इस जानकारी को अपने दोस्तों और सोशल मिडिया पर जरूर शेयर करे। आपका धन्यवाद!

HINDI WEB BOOK

HINDI WEB BOOK

हिंदी वेब बुक अपने प्रिय पाठकों को बहुमूल्य जानकारियाँ उपलब्ध कराने के लिये समर्पित है, हम अपने इस कार्य में उनके समर्थन और सुझाव की अपेक्षा करते है, ताकि हमारा यह प्रयास और बेहतर हो सके।

Leave a Comment

View More Post