हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार क्यों कहाँ जाता हैं?

0
43
हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार हैं। हरिद्वार (जिसे हरद्वार भी कहा जाता है) से होकर गुजरने वाली गंगा नदी तथा अपने दिव्य मंदिरो के कारण यह उत्तराखंड का ही नहीं अपितु भारत का भी सबसे पवित्र हिंदू शहर माना जाता है। पुरे भारत और देश विदेश से तीर्थयात्री यहाँ देव नदी गंगा में स्नान करने के लिए आते हैं।

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

यहाँ हर-की-पौड़ी पर गंगा स्नान करने वाले लोगों को हरिद्वार में एक दिव्य अनुभूति और श्रद्धा भाव का अनुभव देती है, जहाँ हर शाम गंगा नदी टिमटिमाते हुऐ दियो और आरती की लपटों के साथ जीवित हो आती है। हरिद्वार मई से लेकर अक्टूबर तक के समय में विशेष रूप से व्यस्त होता है, इसमें में भी विशेष रूप से जुलाई के दौरान, जब लाखों शिव भक्त, कांवरिया के रूप में शहर में उतरते हैं।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार क्यों कहाँ जाता हैं?

‘काशी कांची चमायाख्यातवयोध्याद्वारवतयपि, मथुराऽवन्तिका चैताः सप्तपुर्योऽत्र मोक्षदाः’; ‘अयोध्या-मथुरामायाकाशीकांचीत्वन्तिका, पुरी द्वारावतीचैव सप्तैते मोक्षदायिकाः।’

सप्तपुरी पुराणों में वर्णित सात मोक्षदायिका पुरियों को कहा गया है। इन पुरियों में ‘काशी’, ‘कांची’ (कांचीपुरम), ‘माया’ (हरिद्वार), ‘अयोध्या’, ‘द्वारका’, ‘मथुरा’ और ‘अवंतिका’ (उज्जयिनी) की गणना की गई है 

हरिद्वार इन्ही परम पवित्र मोक्षदायनी सप्तपुरियों में से एक है। हरिद्वार को उत्तराखंड और देवभूमि के मुख्य चार धामों के प्रवेश द्वार के रूप में जाना जाता है। पंच तीर्थ ’या हरिद्वार की परिधि के भीतर स्थित पांच तीर्थस्थल, गंगाद्वार (हर की पौड़ी), कुशवर्त (घाट), कनखल, बिलवा तीर्थ (मनसा देवी मंदिर) और नील पर्वत (चंडी देवी) भी है।

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

हरिद्वार उन प्रमुख स्थानों में से एक है, जहां पर कुंभ मेला हर बारह साल में और अर्ध कुंभ हर छह साल में आयोजित होता है। हरिद्वार न केवल शरीर, मन और आत्मा में नवीनता का निवास बना हुआ है, बल्कि कला, विज्ञान और संस्कृति सीखने के लिए भी आकर्षण का केंद्र है। हरिद्वार में आयुर्वेदिक दवाओं और हर्बल उपचार के साथ-साथ पारंपरिक शिक्षा की अपनी अनूठी गुरुकुल विद्यालय प्रणाली के भी एक महान स्रोत के रूप में लंबे समय से स्थिति है।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

राजाजी नेशनल पार्क हरिद्वार से सिर्फ 10 किलोमीटर दूर है। यह वन्यजीवों और साहसिक प्रेमियों के लिए एक आदर्श गंतव्य स्थान है। शाम के समय, घाट हजारों दीए (दीप) के रूप में लुभावने और सुंदर लगते हैं तथा साथ में गेंदे के फूल तैरते हुऐ पवित्र जल को रोशन करते हैं।

हरिद्वार आज के रूप में, न केवल एक धार्मिक महत्व रखता है, बल्कि यह रुड़की विश्वविद्यालय के लिए भी प्रसिद्ध है, जो भारत की प्राचीन और विशिष्ट विश्वविधालय में से एक है। विज्ञान और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में सीखने का एक प्रसिद्ध संस्थान तथा जिले के एक अन्य विश्वविद्यालय यानी गुरुकुल में एक विशाल परिसर, जो अपनी तरह से एक पारंपरिक शिक्षण को प्रदान करता है।

हरिद्वार तीर्थयात्रा का महत्व क्या है? 

हरिद्वार का उल्लेख अक्सर प्राचीन धर्मग्रंथों में मिलता है। जिसे प्रमुख चार तीर्थस्थानों उज्जैन, नासिक, और इलाहाबाद के साथ एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थान बनाता है। जहाँ इन 3 स्थलों पर घूमने के बाद हर 3 साल के बाद यहाँ पर कुंभ मेला मनाया जाता है। महाकुंभ मेला 2022 में हरिद्वार में आयोजित किया जाएगा। हरिद्वार को प्राचीन लेखों में मायापुरी, गंगाद्वार, मोक्षद्वार कहा गया है।

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

हरिद्वार उत्तराखंड के चार धामों के प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है। हरिद्वार की परिधि के भीतर स्थित ‘पंच तीर्थ’ या पाँच तीर्थ हैं गंगाद्वार (हर की पौड़ी), कुशावर्त (घाट), कनखल, बिल्व तीर्थ (मनसा देवी मंदिर) और नील पर्वत (चंडी देवी) है। इसके अन्य प्रसिद्ध आकर्षणों में चंडी देवी मंदिर, माया देवी मंदिर, नील धरा पाक्षी विहार, भीमगोडा टैंक, भारत माता मंदिर आदि शामिल हैं।

हरिद्वार यदि आप शांति और आध्यात्मिकता की तलाश में आये हैं, तो सबसे अच्छी जगहों में से एक है। यहाँ कोई भी व्यक्ति मंदिर की सैर कर सकता है, नदी के किनारे टहल सकता है, गंगा में एक पवित्र डुबकी लगा सकता है, तथा स्वर्ग जैसे शांत वातावरण का आनंद ले सकता है।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार के अतिरिक्त हरिद्वार का आकर्षण क्या है?  

हरिद्वार एक प्राचीन शहर और उत्तराखंड के हरिद्वार जिले में एक नगर पालिका है। यह मुख्यालय और हरिद्वार जिले का सबसे बड़ा शहर भी है। हरिद्वार एक ज्वलंत स्थलाकृति को दर्शाता है, जिसमें एक तरफ शक्तिशाली हिमालय और दूसरी तरफ मैदानी इलाका है। 

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • हर की पौड़ी

इस पवित्र घाट का निर्माण राजा विक्रमादित्य (पहली शताब्दी ईसा पूर्व) ने अपने भाई भरथरी की याद में करवाया था। ऐसा माना जाता है कि भरथरी हरिद्वार आए और उन्होंने पवित्र गंगा के तट पर ध्यान किया। जब उनकी मृत्यु हुई, तो उनके भाई राजा विक्रमादित्य ने उनके नाम पर यहाँ एक घाट का निर्माण कराया था, जिसे बाद में हर की पौड़ी के नाम से जाना जाने लगा। हर की पौड़ी के भीतर सबसे पवित्र घाट ब्रह्मकुंड है। हर की पौड़ी में देवी गंगा को अर्पित की जाने वाली शाम की आरती किसी भी आगंतुक के लिए एक दिव्य अनुभव होती है।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • चंडी देवी मंदिर

यह मंदिर देवी चंडी को समर्पित है, जो गंगा नदी के पूर्वी तट पर ‘नील पर्वत’ पर विराजमान हैं। इसका निर्माण 1929 में कश्मीर के राजा सुच्चत सिंह द्वारा किया गया था। स्कंद पुराण में एक पौराणिक कथा का उल्लेख है, जिसमें एक स्थानीय दानव राजा शुंभ और निशुंभ के सेना प्रमुख चण्ड और मुण्ड को देवी चंडी ने यहां मार दिया था, जिसके बाद इस स्थान का नाम चंडी देवी पड़ा। यह माना जाता है, कि मुख्य प्रतिमा 8 वीं शताब्दी में आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित की गई थी।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • मनसा देवी मंदिर

यह मंदिर बिल्व पर्वत के शीर्ष पर स्थित, देवी मनसा को समर्पित है, जिसका शाब्दिक अर्थ है इच्छाओं को पूरा करने वाली देवी (मनसा), एक पर्यटक स्थल है। मुख्य मंदिर में देवी की दो मूर्तियाँ हैं, जिनमें तीन मुँह और पाँच भुजाएँ हैं, जबकि दूसरी में आठ भुजाएँ हैं।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • माया देवी मंदिर

हरिद्वार को पहले मायापुरी के नाम से जाना जाता था जो देवी माया देवी के कारण है। 11 वीं शताब्दी से हरिद्वार को आदिशक्ति देवी (संरक्षक देवी), माया देवी के इस प्राचीन मंदिर को सिद्धपीठों में से एक माना जाता है और कहा जाता है कि यह देवी सती के हृदय और नाभि का स्थान है। यह मंदिर हरिद्वार में नारायणी शिला मंदिर और भैरव मंदिर के साथ खड़े कुछ प्राचीन मंदिरों में से एक है।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • मकरवाहिनी मंदिर

बिरला घाट के करीब, लालताराव पुल के पास स्थित एक मंदिर है जो देवी गंगा को समर्पित है। इस मंदिर की स्थापना कांची कामकोटि के शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती ने कुछ दशकों पहले की थी। दक्षिण-भारतीय शैली में बने इस मंदिर में देवी को सब्जियों और सूखे फलों से सजाने का एक पारंपरिक रिवाज है, जो उन्हें नवरात्रि के आठवें दिन अष्टमी पूजा पर शाकंभरी की उपाधि देता है।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • कनखल

यहाँ स्थित दक्ष महादेव के प्राचीन मंदिर को दक्षिणेश्वर महादेव मंदिर के नाम से भी जाना जाता है, जो दक्षिण कनखल शहर में स्थित है। हिंदू ग्रंथों के अनुसार, भगवान शिव की पहली पत्नी, दक्षिणायनी के पिता, राजा दक्ष प्रजापति ने यहाँ एक यज्ञ किया था, जिसमें उन्होंने जानबूझकर भगवान शिव को आमंत्रित नहीं किया था।

जब माता सती वहाँ बिन बुलाए पहुंची, तो राजा द्वारा उसका और भगवान शिव का अपमान किया गया, जिसे देखकर सती ने स्वयं को यज्ञ कुंड में भस्म कर दिया। राजा दक्ष के इस कृत्य से क्रोधित हो शिव से उत्पन्न राक्षस वीरभद्र ने दक्ष का वध कर दिया था। बाद में भगवान शंकर ने सभी देवो के आग्रह पर राजा दक्ष को जीवित किया गया और उन्हें एक बकरे का सिर लगा दिया।

दक्ष महादेव मंदिर इस कथा के लिए एक श्रद्धांजलि है। यही पर स्थित सती कुंड, एक अन्य प्रसिद्ध पौराणिक धरोहर है। यही मान्यता है कि माता सती ने खुद को इस कुंड में विसर्जित किया था।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • नील धरा पाक्षी विहार

हरिद्वार जंक्शन रेलवे स्टेशन से 3.5 किमी की दूरी पर, नील धरा पाक्षी विहार है। हरिद्वार के भीमगोड़ा बैराज में स्थित एक पक्षी-दर्शन स्थल है, जिसमें समृद्ध वनस्पति और जीव हैं। भीमगोड़ा बैराज हरिद्वार के पास गंगा नदी पर है।

यह बैराज मूल रूप से सिंचाई की सहायता के लिए बनाया गया था, लेकिन यह हाइड्रो-इलेक्ट्रिक पावर भी उत्पन्न करता है और बाढ़ को नियंत्रित करता है। बैराज के पीछे के क्षेत्र को नील धारा पाक्षी विहार के रूप में जाना जाता है। यह जगह पक्षी-प्रेमी पर्यटकों के बीच लोकप्रिय है।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • भीमगोडा टैंक

यह टैंक हर की पौड़ी से लगभग 1 किमी की दूरी पर स्थित है। कहा जाता है, कि जब पांडव हरिद्वार से होते हुए हिमालय जा रहे थे, तब राजकुमार भीम ने अपने घुटने (गोडा) को जोर से जमीन पर गिराते हुए यहां की चट्टानों से पानी निकाला था।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • दूधाधारी बर्फ़ानी मंदिर

दूधाधारी बर्फ़ानी मंदिर दूधाधारी बाबा के आश्रम का हिस्सा है, सफेद संगमरमर से बना यह मंदिर परिसर हरिद्वार में स्थित एक उत्कृष्ट उदाहरण है, यहाँ स्थापित विशेष रूप से राम-सीता और हनुमना जी मूर्तियाँ अति दिव्य है।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • सुरेश्वरी देवी मंदिर

राजाजी नेशनल पार्क के बीच में स्थित देवी सुरेश्वरी का मंदिर निर्मल और धार्मिक उपासकों, संतों का निवास स्थान है। रानीपुर में हरिद्वार के बाहरी इलाके में यह मंदिर स्थित है, यहाँ जाने के लिये वन रेंजरों से अनुमति आवश्यक है। मंदिर का स्थान भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड तथा हरिद्वार की सीमा से परे है।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • पावन धाम

कांच के टुकड़ों से बना एक आधुनिक मंदिर, पावन धाम अब एक पर्यटन स्थल है। स्वामी वेदांतानंद महाराज के प्रयास से मंदिर परिसर का निर्माण किया गया था और स्वामी सहज प्रकाश महाराज के नेतृत्व में वहां स्थित संस्थान विकसित हो रहा है। पंजाब के मोगा के लोगों ने इस जगह को खड़ा करने के लिए काफी प्रयास और पैसा लगाया है।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • भारत माता मंदिर

भारत माता मंदिर एक बहुमंजिला मंदिर है जो भारत माता (भारत माता) को समर्पित है। भारत माता मंदिर का उद्घाटन 15 मई 1983 को इंदिरा गांधी द्वारा गंगा नदी के तट पर किया गया था। यह समंवय आश्रम के समीप स्थित है, और यह 180 फीट (55 मीटर) की ऊंचाई तक इसमें आठ कहानियाँ को अंकित किया गया है।

प्रत्येक मंजिल में भारतीय इतिहास में रामायण के दिनों से एक युग को दर्शाया गया है। पहली मंजिल पर भारत माता की मूर्ति है। दूसरी मंजिल, शूर मंदिर, भारत के प्रसिद्ध नायकों को समर्पित है। तीसरी मंजिल मातृ मंदिर भारत की श्रद्धेय महिलाओं की उपलब्धियों के लिए समर्पित है, जैसे कि राधा, मीरा, सावित्री, द्रौपदी, अहिल्या, अनुसूया, मैत्रेयी, गार्गी आदि। 

चौथी मंजिल पर जैन धर्म, सिख धर्म और बौद्ध धर्म सहित विभिन्न धर्मों के महान संतों को चित्रित किया गया है। भारत में प्रचलित सभी धर्मों के प्रतीकात्मक सह-अस्तित्व को दर्शाने वाली दीवारों के साथ सभा हॉल और विभिन्न प्रांतों में इतिहास को चित्रित करने वाली पेंटिंग पाँचवीं मंजिल पर स्थित है। देवी शक्ति के विभिन्न रूपों को छठे तल पर देखा जा सकता है।

सातवीं मंजिल को भगवान विष्णु के सभी अवतारों के लिये समर्पित किया गया है। आठवीं मंजिल पर भगवान शिव का अति सुंदर मंदिर है, जहां से भक्त हिमालय, हरिद्वार और सप्त सरोवर के परिसर का दृश्य प्राप्त कर सकते हैं। 

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • सप्त ऋषि आश्रम और सप्त सरोवर

गंगा के किनारे सप्त सरोवर में सप्त ऋषि आश्रम एक ध्यान और योग केंद्र है। शब्द ‘सप्त’, जिसका अर्थ सात है, एक पौराणिक मान्यता को दर्शाता है। हिंदू परंपरा के अनुसार, यह आश्रम वह स्थान है जहां सात ऋषियों ने एक बार ध्यान किया था। गुरु गोस्वामी दत्त द्वारा 1943 में स्थापित यह आश्रम, गरीब बच्चों के लिए आवास, भोजन और मुफ्त शिक्षा को प्रदान करता है।

हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-

  • शांतिकुंज आश्रम 

शांतिकुंज पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा स्थापित आध्यात्मिक और सामाजिक संगठन अखिल विश्व गायत्री परिवार (AWGP) का मुख्यालय है। यह हरिद्वार रेलवे स्टेशन से NH58 पर ऋषिकेश / देहरादून की ओर 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पवित्र गंगा के तट पर और हिमालय की शिवालिक श्रेणियों के बीच, यह पर्यटकों के साथ-साथ आध्यात्मिक मार्गदर्शन के साधकों के लिए भी आकर्षण का स्थान है।

——-हरिद्वार आध्यात्मिक शांति और देवताओं का प्रवेश द्वार——-