काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद का विवाद क्या है?

0
43
काशी विश्वनाथ मंदिर

काशी विश्वनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित सबसे प्रसिद्ध हिंदू मंदिरों में से एक है। यह भारत में उत्तर प्रदेश के वाराणसी के विश्वनाथ गली में स्थित है। यह मंदिर पवित्र गंगा नदी के पश्चिमी तट पर स्थित है, और बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है, यह ज्योतिर्लिंगम, भगवान शिव के मंदिरों में सबसे पवित्र है।

इस मंदिर के मुख्य देवता को श्री विश्वनाथ और विश्वेश्वर के नाम से जाना जाता है, जिसका शाब्दिक अर्थ ब्रह्मांड का भगवान है। प्राचीन काल में वाराणसी को काशी (“चमकता”) कहा जाता था, और इसलिए इस मंदिर को लोकप्रिय रूप से काशी विश्वनाथ मंदिर कहा जाता है। विश्वेश्वर नाम की व्युत्पत्ति शास्त्रों के अनुसार विश्व: ब्रह्मांड, ईश्वर: स्वामी, जो प्रभुत्व रखता है के नाम से की गई है।

काशी विश्वनाथ मंदिर को हिंदू धर्मग्रंथों में शैव दर्शन में पूजा के एक केंद्रीय भाग के रूप में बहुत लंबे समय से संदर्भित किया गया है। इसे कई मुस्लिम शासकों द्वारा कई बार ध्वस्त किया गया था, सबसे हाल में ही इसे छठे मुगल सम्राट औरंगजेब ने 1669 में ध्वस्त किया था, तथा इसके प्रांगण में ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण किया था। काशी विश्वनाथ की वर्तमान संरचना का निर्माण 1780 में इंदौर के मराठा शासक, अहिल्या बाई होल्कर द्वारा काशी विश्वनाथ के प्रतिरूप में इसका निर्माण किया था।

1983 से, काशी विश्वनाथ मंदिर का प्रबंधन उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किया जाता है। शिवरात्रि के धार्मिक अवसर के दौरान, काशी नरेश (काशी के राजा) मुख्य कार्यवाहक पुजारी होते हैं। 13 दिसंबर 2021 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भव्य श्री काशी विश्वनाथ धाम का उद्घाटन किया गया है।  

काशी विश्वनाथ मंदिर का पौराणिक महत्व क्या है? 

शिव पुराण के अनुसार, एक बार सृष्टि रचियता ब्रह्मा जी और पालनकर्ता श्री हरि विष्णु के बीच इस बात को लेकर मतभेद हो गया की उनमें सर्वोच्च कौन है। तब उनकी परीक्षा लेने के लिए, भगवान शिव ने प्रकाश के एक विशाल अंतहीन स्तंभ, ज्योतिर्लिंग के रूप में तीनों लोकों को अपने भीतर समा लिया। तब ब्रह्मा जी और श्री विष्णु ने इस ज्योति स्तंभ को जानने के लिए इसमें प्रवेश किया।

काशी विश्वनाथ मंदिर

भगवान विष्णु ने नीचे की और तथा ब्रह्मा ने स्तंभ के शीर्ष की ओर चलना प्रारंभ किया। ब्रह्मा जी ने अहंकार के कारण झूठ बोला और साक्षी के रूप में केतकी के फूल की पेशकश करते हुए यह कहाँ की उन्होंने इस स्तंभ का अंत पता लगा लिया है। 

लेकिन भगवान विष्णु ने विनम्रतापूर्वक यह स्वीकार किया कि वह इस स्तंभ का तल नहीं ढूंढ पाए है। ब्रह्मा जी के अहंकार के असत्य वचन से शिव ने क्रोध किया और उनकी भृगुटि से भैरव प्रगट हुए और उन्होंने ब्रह्मा के पांचवें सिर को काट दिया, और ब्रह्मा को श्राप दिया कि अब उनकी पूजा नहीं की जाएगी। भगवान विष्णु को उनकी सत्यता से प्रसन्न होकर महादेव ने यह वरदान दिया की वे शिव के समान ही अनंत काल तक पूजे जायेगे।

भगवान शिव ने काल भैरव को काशी का पहरेदार नियुक्त किया और काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिङ्ग की आराधना से ही काल भैरव ब्रह्म हत्या के पाप से मुक्त हुए थे। काशी विश्वनाथ मंदिर के पास गंगा के तट पर मणिकर्णिका घाट को शक्ति पीठ के रूप में माना जाता है, जो शाक्य (शक्ति पूजक) संप्रदाय के लिए पूजनीय स्थान है। 

काशी विश्वनाथ मंदिर से जुड़े प्रमाणिक तथ्य क्या है?   

प्राचीन और शास्त्रीय काल

काशी राजघाट की खुदाई में भगवान अविमुक्तेश्वर (विश्वेश्वर / विश्वनाथ) की एक मोहर जो दिनांक 9-10 शताब्दी ईसा पूर्व की है उसकी खोज की गई थी। वैन्यागुप्त ने 508-10 CE के दौरान काशी विश्वनाथ मंदिर का पुनर्निर्माण किया। Xuan Zang एक चीनी यात्री जिसने 635 CE में वाराणसी का दौरा किया और अपनी पुस्तक में काशी विश्वनाथ मंदिर का उल्लेख किया। स्कंद पुराण के काशी खंड सहिंता में भी इस मंदिर का उल्लेख है।

मध्यकालीन युग

मूल विश्वनाथ मंदिर को कुतुब्दीन ऐबक की सेना ने 1194 ई. में तबाह कर दिया था, जब उसने कन्नौज के राजा को मोहम्मद गोरी के सेनापति के रूप में हराया था। 1230 में, दिल्ली के सुल्तान इल्तुतमिश (1211-1266 CE) के शासनकाल के दौरान एक गुजराती व्यापारी द्वारा काशी विश्वनाथ मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया था। हुसैन शाह शर्की (1447-1458) या सिकंदर लोधी (1489-1517) के शासन के दौरान इसे फिर से ध्वस्त कर दिया गया था।

मुग़ल काल

राजा मान सिंह ने मुगल सम्राट अकबर के शासन के दौरान काशी विश्वनाथ मंदिर का निर्माण कराया था। राजा टोडर मल ने 1585 में मूल स्थान पर मंदिर को फिर से बनाया। जहांगीर के शासन के दौरान, वीर सिंह देव ने पुराने मंदिर का जीर्णोद्धार किया। 1669 ईस्वी में, औरंगजेब ने मंदिर को नष्ट कर दिया और उसके स्थान पर ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण किया। काशी विश्वनाथ मंदिर के बचे हुए अवशेष नींव, स्तंभों और मस्जिद के पिछले हिस्से में देखे जा सकते हैं।

काशी विश्वनाथ मंदिर

ब्रिटिश काल

1742 में, मराठा शासक मल्हार राव होल्कर ने मस्जिद को ध्वस्त करने और उस स्थल पर काशी विश्वनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण की योजना बनाई। हालांकि, उनकी योजना आंशिक रूप से अवध के नवाब के हस्तक्षेप के कारण अमल में नहीं आई, जिसे इस क्षेत्र का नियंत्रण दिया गया था। काशी विश्वनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए जमीन खरीदने का उद्देश्य भी पूरा नहीं हुआ। 1780 में, मल्हार राव की बहू अहिल्याबाई होल्कर ने मस्जिद से सटे स्थल पर वर्तमान काशी विश्वनाथ मंदिर का निर्माण किया।

1828 में, ग्वालियर राज्य के मराठा शासक दौलत राव सिंधिया की विधवा, बैजा बाई ने ज्ञान वापी परिसर में 40 से अधिक स्तंभों के साथ एक कम छत वाले उपनिवेश का निर्माण किया। 1833-1840 ईस्वी के दौरान, ज्ञानवापी कुएँ की सीमा, घाट और आसपास के अन्य मंदिरों का निर्माण किया गया था। भारतीय उपमहाद्वीप के विभिन्न पुश्तैनी राज्यों और उनके पूर्व प्रतिष्ठानों के कई कुलीन परिवार मंदिर के संचालन के लिए उदार योगदान देते हैं।

1835 में सिख साम्राज्य के महाराजा रणजीत सिंह ने अपनी पत्नी महारानी दातार कौर के कहने पर मंदिर के गुंबद के लिए 1 टन सोना दान किया था। 1841 में, नागपुर के रघुजी भोंसले तृतीय ने मंदिर को चांदी दान में दी थी। 

मंदिर का प्रबंधन पंडितों या महंतों के वंशानुगत समूह द्वारा किया जाता था। महंत देवी दत्त की मृत्यु के बाद, उनके उत्तराधिकारियों के बीच एक विवाद उत्पन्न हुआ। 1900 में, उनके बहनोई पंडित विश्वेश्वर दयाल तिवारी ने एक मुकदमा दायर किया, जिसके परिणामस्वरूप उन्हें प्रधान पुजारी घोषित किया गया।   

आजादी के बाद

दिसंबर 1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद श्रृंगार गौरी (ज्ञानवापी मस्जिद के पीछे) की लंबे समय से चली आ रही पूजा रोक दी गई थी।

काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद विवाद क्या है?  

ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर हिंदू पक्ष हमेशा यह दावा करते रहे कि इस विवादित ढांचे के नीचे एक ज्योतिर्लिंग है। ज्ञानवापी मस्जिद का एक हिस्सा मंदिर के अवशेषों पर बना है तथा संरचना की दीवारों पर देवताओं के चित्र भी लगे हुए हैं, जो की स्पष्ट दिखाई देते है। इसके साक्ष्य मौजूद है कि काशी विश्वनाथ मंदिर को औरंगजेब ने 1664 में नष्ट कर दिया था। फिर उसके अवशेषों से एक मस्जिद का निर्माण किया गया था, जिसे मंदिर की भूमि के एक हिस्से पर ज्ञानोदय मस्जिद के रूप में जाना जाता है।

वाराणसी कोर्ट में 1991 में काशी विश्वनाथ-ज्ञानवापी मामले में मुकदमा दर्ज किया गया था। इस याचिका के जरिए ज्ञानवापी में पूजा की अनुमति मांगी गई थी। लेकिन कुछ दिनों बाद मस्जिद कमेटी ने पूजा स्थल अधिनियम, 1991 का हवाला देते हुए इसे उच्च न्यायालय में चुनौती दी। 1993 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने यथास्थिति बनाए रखने के लिए स्टे लगा दिया।

काशी विश्वनाथ मंदिर

हालांकि स्थगन आदेश की वैधता पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई और फैसला आने के बाद 2019 में वाराणसी कोर्ट में फिर से मामले की सुनवाई शुरू हुई। अब एएसआई से ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे कराने की मंजूरी मिल गई है। इस क्रम में खास बात यह है कि सर्वे करने वाली टीम 5 सदस्यों की होगी, जिसमें 2 अल्पसंख्यक समुदाय से और 3 अन्य होंगे। इस टीम की निगरानी भी एक केंद्रीय विश्वविद्यालय के पुरातत्व विषय में वैज्ञानिक करेंगे। इसमें उत्तर प्रदेश के पुरातत्व विभाग द्वारा एएसआई की मदद की जाएगी।

वहीं, प्रतिवादी पक्ष (ज्ञानवापी मस्जिद), अंजुमन अरेंजमेंट्स मस्जिद कमेटी और सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड द्वारा दायर किए गए जवाबी दावों में दावा किया गया था कि यहां विश्वनाथ मंदिर कभी मौजूद नहीं था और औरंगजेब ने इसे कभी नहीं तोड़ा। जबकि मस्जिद अनादि काल से खड़ी है। उन्होंने अपने शिकायत पत्र में यह भी स्वीकार किया कि यह संरचना कम से कम 1669 से चल रही है। 

काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर योजना 

काशी विश्वनाथ मंदिर से गंगा तट तक 5,27,730 वर्गफीट क्षेत्रफल में इस कारिडोर का निर्माण किया जायेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में 8 मार्च 2019 को इस बहुप्रतीक्षित परियोजना के लिए भूमि पूजन किया था। काशी विश्वनाथ मंदिर से गंगा तट तक 5,27,730 वर्गफीट क्षेत्रफल में इस कारिडोर का निर्माण किया जायेगा। इस कारिडोर में 27 निर्माण प्वाइंट्स हैं। 13 दिसंबर 2021 को पीएम मोदी इसका लोकार्पण किया। 

इस परियोजना का लक्ष्य मंदिर के कुल क्षेत्रफल को लगभग 50,000 वर्ग मीटर तक बढ़ाना है। लगभग 1,400 निवासियों और व्यवसायों को कहीं और स्थानांतरित किया गया और मुआवजा दिया गया। जीर्णोद्धार के दौरान, गंगेश्वर महादेव मंदिर, मनोकामेश्वर महादेव मंदिर, जौविनायक मंदिर और श्री कुंभ महादेव मंदिर सहित 40 से अधिक खंडहर, सदियों पुराने मंदिरों को पाया गया और उनका पुनर्निर्माण किया गया।

काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर को मुख्यत 3 भागों में बांटा गया है। जिसमे 4 बड़े-बड़े गेट और प्रदक्षिणा पथ स्थापित किये गये जिन पर संगमरमर के 22 शिलालेख लगाए गए हैं। इन शिलालेखों पर काशी की महिमा का वर्णन किया गया है। इसके अलावा इस कॉरिडोर में मंदिर चौक, मुमुक्षु भवन, तीन यात्री सुविधा केंद्र, चार शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, मल्टीपरपस हॉल, सिटी म्यूजियम, वाराणसी गैलरी जैसी सुख-सुविधाओं की भी व्यवस्था की गई है।

अंत में 

हमनें इस लेख के माध्यम से आपको “काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद का अनसुलझा विवाद क्या है?” के बारें में सम्पूर्ण जानकारी देने प्रयास किया गया है, हमे पूरी उम्मीद है यह जानकारी आपके लिये काफी उपयोगी साबित होगी।

यदि इस आर्टिकल से सम्बन्धित आपके पास कोई सुझाव हो तो कमेंट बाक्स के माध्यम से आप उसे हम तक पंहुचा सकते है। आप इस जानकारी को अपने दोस्तों और सोशल मिडिया पर जरूर शेयर करे। आपका धन्यवाद!