शेयर बाजार के फायदे और नुकसान, निवेश से पहले विचार करे।

0
20
शेयर बाजार के फायदे और नुकसान
शेयर बाजार के फायदे और नुकसान

आज मार्केट में शेयर के साथ म्युचुअल फंड, पीपीएफ, एफडी/आरडी आदि बहुत सारे निवेश के विकल्प उपलब्ध हैं, जो भविष्य में अच्छा लाभ दे सकते है। आज हम जिस निवेश विकल्प की बात करेगे वह लंबी अवधि में सबसे ज्यादा रिटर्न दे सकता है, वह है शेयर बाजार, लेकिन निवेश से पहले आपको शेयर बाजार के फायदे और नुकसान पर विचार कर लेना चाहिए।

शेयर बाजार में निवेश से ऊंचे रिटर्न के साथ बड़ा जोखिम भी होता है, यह भी आपको ध्यान में रखना है। इसलिए जब भी आप शेयर बाजार में अपनी गाढ़ी कमाई को निवेश करने पर विचार करे तो उससे पहले आपको शेयर बाजार के फायदे और नुकसान के बारे में पूरा पता होना चाहिए।

शेयर बाजार के फायदे और नुकसान

आमतौर पर, अधिकतर निवेशक अनिश्चितता से दूर रहना पसंद करते हैं और कोई ऐसी अप्रिय स्थिति आने पर तुरंत घबरा जाते हैं। उनकी यही घबराहट ही गलतियों को जन्म देती है और अस्थिर बाजार में उनकी यही गलतियों बड़ी आसानी से नुकसान में बदल जाती है। निवेशकों को यहा शेयर बाजार के फायदे और नुकसान को समझने की आवश्यकता है कि वे शेयर बाजार में अपने निवेश के नुकसान को कैसे दूर करे।

आज हम इस लेख में निवेश से पहले शेयर बाजार के फायदे और नुकसान क्या है उसके बारे में चर्चा करेंगे ताकि निवेशक शेयर बाजार का उपयोग करके अपने निवेश से धन कैसे बना सकते हैं। तो चलो इसे शुरू करते है।

शेयर बाजार के फायदे और नुकसान
शेयर बाजार के फायदे और नुकसान

शेयर बाजार के फायदे

सबसे पहले हम शेयर बाजार के फ़ायदों पर बात करेगे

  • कम समय में उच्च रिटर्न मिलने की संभावना

शेयर बाजार में निवेश करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें बैंक एफडी, सैविंग अकाउंट खाते आदि जैसे अन्य दूसरे निवेश विकल्पों की तुलना में बहुत ही कम समय में मुद्रास्फीति को मात देने की क्षमता है, जो आपको अच्छा खासा रिटर्न दे सकता है।

  • कंपनी में स्वामित्व हिस्सेदारी

जब भी आप किसी शेयर बाजार में सार्वजनिक सूचीबद्ध कंपनी के शेयर को खरीदते हैं, तो निवेश के हिसाब से आपके शेयर का आकार कितना भी छोटा क्यों न हो, वह कंपनी आपको शेयर के आनुपातिक नियंत्रण प्रदान करेगी। कुछ कंपनिया शेयरों के इस स्वामित्व बदले में आपको मतदान के अधिकार के साथ आपको लाभांश, बोनस आदि भी प्रदान करेगी।

  • हाई लिक्विडिटी 

अगर आप अन्य निवेश विकल्पों के विपरीत इसे देखे तो शेयरों में कोई भी लॉक-इन अवधि नहीं होती है। यनिकी कोई भी निवेशक एक सेकंड के भीतर अपने स्टॉक एक्सचेंजों के माध्यम से शेयर खरीद और उन्हे बेच सकते हैं।

  • आपके अधिकार सेबी द्वारा सुरक्षित है

भारतीय शेयर बाजार को भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के द्वारा पूरी तरह से नियंत्रित किया जाता है। सेबी सभी शेयरधारकों के हितों की रक्षा के लिए शेयर बाजार के सभी दलालों, उप-दलालों, सलाहकारों और स्टॉक एक्सचेंजों जैसे सभी बाजार सहभागियों पर बड़ी कड़ी निगरानी रखता है। ताकि निवेशको के अधिकार सुरक्षित रहे।

  • टैक्स में बेनेफिट 

यदि आप शेयर बाजार में लंबी अवधि के पूंजीगत लाभ के लिए 12 महीने या उससे अधिक समय के लिए किए निवेश करते है तो आपके निवेश पर केवल 1 लाख रुपये से अधिक का यनिकी 10% टैक्स लगता है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है

लेकिन शॉर्ट-टर्म कैपिटल गेन यनिकी आपका निवेश 12 महीने से कम समय के लिए है तो उस स्थिति में आपके किए गए निवेश पर 15% टैक्स + 3% सब-टैक्स लगाया जाता है।

यह ध्यान रखे की किसी भी पूंजीगत नुकसान की भरपाई आठ वित्तीय वर्षों तक की जा सकती है।

यहा हमने शेयर बाजार के फायदे और नुकसान मे सबसे पहले शेयर बाजार के फायदे पर विचार किया आब आगे शेयर बाजार के नुकसान पर विचार करेगे।

शेयर बाजार के फायदे और नुकसान
शेयर बाजार के फायदे और नुकसान

शेयर बाजार के नुकसान

तो चलिए शेयर बाजार के नुकसान पर बात करते है

  • अस्थिरता का माहोल 

शेयर बाजार में एक अस्थिरता का माहोल रहता है जिस कारण यहा निवेश को जोखिम भरा माना जाता है क्योंकि बाजार में कभी भी उतार-चढ़ाव हो सकता है, जो आपके रिटर्न को ऊपर नीचे कर सकता है है और यहां तक कि शेयर बाजार में लोअर सर्किट भी लग सकता है।

  • निवेश का जोखिम

निवेश का जोखिम एक निवेशक के लिए वित्तीय बाजारों के समग्र प्रदर्शन को प्रभावित करने वाले होता है और इन्ही कारकों के कारण निवेशक को नुकसान का सामना करने की संभावना होती है। लेकिन यह जोखिम दो प्रकार के होते हैं:

1.) सुनियोजित जोखिम

सुनियोजित जोखिम समग्र शेयर बाजार को प्रभावित करता है और इसे निवेश विविधीकरण के माध्यम से भी समाप्त नहीं किया जा सकता है।

उदाहरण: प्राकृतिक आपदाएँ, राजनीतिक उथल-पुथल, आतंकवादी हमले आदि।

2.) अनियंत्रित जोखिम

यह एक विशिष्ट उद्योग या किसी एक कंपनी के लिए अनियंत्रित जोखिम अपरिहार्य है लेकिन इसे निवेश विविधीकृत करके कम किया जा सकता है।

  • स्टॉकहोल्डर्स को अंतिम भुगतान

जब भी किसी कंपनी का परिसमापन होता है, तो वह अपने शेयरधारकों को सबसे अंत में भुगतान करती है जबकि वही कंपनी अपने बांडधारकों और लेनदारों को सबसे पहले भुगतान करती है।

  • इमोशनल रोल्लेर्कोस्टर

शेयर बाजार में अस्थिरता के कारण शेयर की कीमतें अक्सर बढ़ती और गिरती रहती हैं। जहा कई निवेशक लालच के कारण उच्च कीमत पर शेयर को खरीदते हैं और डर के कारण उन्हे कम कीमत पर बेच देते हैं। इसलिए, रोलर कोस्टर निवेश के प्रभाव से बचने के लिए कॉफी-कैन निवेश एक सबसे अच्छी रणनीति मानी जाती है।

यहा हमने आपके लिए निवेश से संबंधित शेयर बाजार के फायदे और नुकसान का विस्तार से वर्णन कर दिया है 

शेयर बाजार के फायदे और नुकसान पर निष्कर्ष

हालांकि निवेश के लिए शेयर बाजार के फायदे और नुकसान हैं, लेकिन फिर भी निवेशकों को अपने निवेश संबंधी कोई भी निर्णय लेते समय काफी सतर्क रहना चाहिए। जोखिमों को कम करने के लिए और रिटर्न को अधिकतम करने के लिए एक निवेशक को पहले शेयर बाजार की मूल बातों को समझना और उन पर उचित शोध करना चाहिए।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है