VPN Technology क्या है और इसकी सेटिंग कैसे करे?

0
58
VPN Technology

आज लगभग हम सभी Internet से जुड़े हुऐ है, लेकिन पर काम करने के फायदे के साथ कुछ खतरे भी है। जहा हमारे द्वारा थोड़ी सी असावधानी हमे नुकसान पंहुचा सकती है। इसलिए हमे एक ऐसी टेक्नोलॉजी की जरुरत है, जो हमे इंटरनेट पर आ रहे खतरों से बचा सके। इन सभी सवालों के जवाब के लिये आज हम चर्चा करेंगे की VPN Technology क्या है और इसकी सेटिंग कैसे करे।

VPN यानिकि Virtual Private Network, जो आपको इंटरनेट के माध्यम से हर दूसरे समुदाय के साथ सुरक्षित रूप से कनेक्शन स्थापित करने की सुविधा देता है। VPN Technology का उपयोग क्षेत्र-प्रतिबंधित वेबसाइटों में प्रवेश पाने के लिए भी किया जा सकता है, साथ ही सार्वजनिक वाई-फाई पर अपनी खरीदारी को सुरक्षित रखने के लिए भी।
 
इन दिनों VPN Technology काफी लोकप्रिय हो रही हैं, हालांकि इसे पहले जिन उद्देश्यों को ध्यान में रखकर डेवेलप किया गया था अब यह उसके अतिरिक्त दूसरे कार्यो में भी इसका इस्तेमाल हो रहा है। शुरुआत दौर में यह इंटरनेट पर व्यावसायिक उद्यम नेटवर्क को सुरक्षित रूप से जोड़ने का एक तरीका था लेकिन अब यह आपको घर से लेकर व्यावसायिक कार्यो में सुरक्षित रूप से प्रवेश पाने में सक्षम बनाता है। 

VPN तकनीक क्या है? What is VPN Technology in Hindi? 

VPN तकनीक वास्तव में नेटवर्क पर आ रहे विज़िटर से जुड़ने की प्रक्रिया को सुरक्षित बनता है। इसके दायरे में Common Asset तक पहुंच के साथ इंटरनेट सेंसरशिप को दरकिनार करना भी हैं। अधिकांश VPN तकनीक सपोर्ट सिस्टम रनिंग बिल्ट-इन स्ट्रक्चर्स के साथ आते है।

VPN Technology

Virtual Private Network
 

VPN टेक्नोलॉजी यानिकि Virtual Private Network एक ऑनलाइन सर्विसेज प्रोवाइडर है जो इंटरनेट पर किसी भी Community के लिए एक Secure कनेक्शन बनाता है, यह आपके IP Address को Hide कर देता है, और आपके ISP को Visitor और सरकार से सही ढंग से बचाव करने के लिए एन्क्रिप्ट करता है। 

VPN का उपयोग नियमित रूप से कंपनियों के माध्यम से Confidential Data को Secure करने के लिए किया जाता है। वीपीएन सभी ऑनलाइन डाटा के ट्रांसफर प्रक्रिया की रक्षा के लिए एक बेहतर एन्क्रिप्शन प्रोटोकॉल और Secure Tunneling Strategies का उपयोग करता है।

लगातार Security Risks का विकसित करना और इंटरनेट पर हमारी लगातार बढ़ती निर्भरता ही VPN Technology को हमारी सुरक्षा का एक सरल हिस्सा बनाती है। इंटरनेट पर आ रही चुनोतियो को सुनिश्चित करना और यह कन्फर्म करना की किसी प्रकार का कोई डाटा गुम नहीं हुआ है और सिस्टम को Hijackers से बचाना ही इसकी सबसे बड़ी ताकत है।

उपभोक्ता VPN तकनीक का उपयोग अपने ऑनलाइन मनोरंजन को Private रखने के लिए करते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि वह अन्य वेब साइटों और सर्विसेज तक सुरक्षित पहुंच को प्राप्त कर सके।

कंपनियां अपने दूर-दराज के कर्मियों से सुरक्षित रूप से जुड़ने के लिए VPN तकनीक का उपयोग करती हैं जैसे कि वे एक केंद्रीय कार्यालय से आस पास की कम्युनिटी से कनेक्ट होना, हालांकि एक प्राइवेट VPN Technology की तुलना में इसमें कम फायदे होते हैं।

VPN Technology कैसे काम करती है? How does VPN technology work?

एक VPN Technology आपके IP Address को एक VPN Host द्वारा चलाए जा रहे विशेष रूप से कॉन्फ़िगर किए गए रिमोट सर्वर के माध्यम से नेटवर्क को Re-direct करने देता है। इसका मतलब है कि जब आप किसी VPN Technology के साथ ऑनलाइन Surfing करते हैं, तो उस समय VPN Server सर्वर आपके डेटा का Source बन जाता है।

VPN Technologyजिससे आपका Internet Service Provider (ISP) और अन्य Third Party यह नहीं देख पाते हैं कि आप किन वेबसाइटों पर Visit कर रहे हैं या आप कौन सा डेटा ऑनलाइन भेजते और प्राप्त करते हैं। VPN Technology एक फिल्टर की तरह काम करती है जो आपके सभी डेटा को “Unclear Data” में बदल देता है। यहां तक ​​कि अगर कोई आपके डेटा को प्राप्त करने का प्रयास करता है तो यह उसके लिये बेकार हो जाता है। 

कंप्यूटर पर VPN सेटिंग कैसे करें? How to set up VPN on computer?

VPN Technology की सेटिंग को स्थापित करने से पहले, हमे निम्नलिखित बिन्दुओ से परिचित होना जरुरी है:

  • VPN Client

स्टैंडअलोन VPN Client के लिए सॉफ्टवेयर का इंस्टॉल होना जरुरी है। यह सॉफ़्टवेयर सिस्टम की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए कॉन्फ़िगर किया जाता है। VPN को सेट करते समय, End-Point VPN Link को Execute करता है और Encryption Tunnel को बनाते हुए दूसरे End-Point से जुड़ता है। 

इस Execution के लिए आमतौर पर कंपनी द्वारा जारी किए गए पासवर्ड या इंस्टॉलेशन सर्टिफिकेट की आवश्यकता होती है। पासवर्ड या इंस्टॉलेशन सर्टिफिकेट का उपयोग करके, फ़ायरवॉल यह पहचान कर सकता है कि यह एक अधिकृत कनेक्शन है या नहीं। इन सब क्रेडेंशियल्स के माध्यम से VPN Technology सिस्टम क्लाइंट की पहचान करता है।

  • Browser Extension

Google क्रोम और फ़ायरफ़ॉक्स जैसे अधिकांश Web Browser में VPN एक्सटेंशन जोड़े जा सकते हैं। ओपेरा सहित कुछ ब्राउज़रों के पास अपने स्वयं के एकीकृत VPN Extension भी हैं। एक्सटेंशन इंटरनेट पर सर्फिंग करते समय उपयोगकर्ताओं के लिए अपने VPN को जल्दी से स्विच और कॉन्फ़िगर करना आसान बनाते हैं। 

हालांकि, VPN Connection केवल इन्ही ब्राउज़र में साझा की गई जानकारी के लिए ही मान्य है। ब्राउज़र के बाहर अन्य ब्राउज़रों और अन्य इंटरनेट उपयोगों का उपयोग करना (जैसे ऑनलाइन गेम) VPN द्वारा एन्क्रिप्ट नहीं किया जा सकता है।

जबकि ब्राउज़र एक्सटेंशन VPN क्लाइंट की तरह व्यापक नहीं हैं, वे कभी-कभार इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के लिए एक उपयुक्त विकल्प हो सकते हैं जो इंटरनेट सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत चाहते हैं। हालांकि, वे नियमो के उल्लंघनों के लिए अधिक संवेदनशील साबित हुए हैं। 

इसलिए उपयोगकर्ताओं को एक प्रतिष्ठित एक्सटेंशन चुनने की भी सलाह दी जाती है, क्योंकि डेटा हार्वेस्टर नकली VPN एक्सटेंशन का उपयोग करने का प्रयास कर सकते हैं। डेटा हार्वेस्टिंग व्यक्तिगत डेटा का एक संग्रह होता है, जैसे कि मार्केटिंग रणनीतिकार आपकी व्यक्तिगत प्रोफ़ाइल बनाने के लिए इनका उपयोग क्या करते हैं। जिससे विज्ञापन सामग्री व्यक्तिगत रूप से आपके अनुरूप लगे।

  • Router VPN

यदि एक से अधिक डिवाइस एक ही इंटरनेट कनेक्शन से जुड़े हुऐ हैं, तो प्रत्येक डिवाइस पर एक अलग VPN स्थापित करने की तुलना में Router पर सीधे VPN को लागू करना आसान होता है। VPN के लिए एक राउटर विशेष रूप से उपयोगी होता है खासकर ऐसे इंटरनेट कनेक्शन वाले उपकरणों की सुरक्षा के लिए जिन्हें कॉन्फ़िगर करना आसान नहीं है, जैसे कि स्मार्ट टीवी। 

एक Router VPN हमेशा सुरक्षा और गोपनीयता प्रदान करता है, और असुरक्षित उपकरणों के लॉग ऑन होने पर उन्हें आपके नेटवर्क से समझौता होने से रोकता है। हालांकि, यदि आपके राउटर का अपना यूजर इंटरफेस नहीं है तो इसे प्रबंधित करना अधिक कठिन हो सकता है। इससे आने वाले कनेक्शन भी अवरुद्ध हो सकते हैं। 

  • Company VPN

एक Company VPN एक परंपरागत समाधान है इसके लिए एक व्यक्तिगत सेटअप और तकनीकी सहायता की आवश्यकता होती है। VPN आमतौर पर आपके लिए कंपनी की आईटी टीम द्वारा सेट किया जाता है। एक उपयोगकर्ता के रूप में, आपको VPN से सम्बंधित तकनिकी जानकारी ना होने से स्वयं पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है क्योकि आपकी गतिविधियों और डेटा स्थानांतरण को आपकी कंपनी द्वारा लॉग किया जाता है। 

यह कंपनी को डेटा रिसाव के संभावित जोखिमो को कम करने की अनुमति देता है। Corporate VPN का मुख्य लाभ यह है की यह कंपनी के इंट्रानेट और सर्वर से पूरी तरह से एक सुरक्षित कनेक्शन होता है, यहां तक ​​कि यह उन कर्मचारियों से भी जो अपने इंटरनेट कनेक्शन का उपयोग करके कंपनी के लिए बाहर से काम करते हैं।

स्मार्टफोन में VPN सेटिंग कैसे करे? How to set up VPN in Smartphone?

स्मार्टफोन और अन्य इंटरनेट से जुड़े उपकरणों के लिए भी VPN के कई विकल्प हैं। एक VPN आपके मोबाइल डिवाइस के लिए आवश्यक हो सकता है यदि आप मोबाईल का उपयोग Fund Transfer या अन्य Personal Data को स्टोर करने और इंटरनेट पर Surfing के लिए करते हैं। कई VPN Provider मोबाइल सोलुशन भी प्रदान करते हैं – जिनमें से कई को आप सीधे Google Play या Apple ऐप स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं, जैसे कि Kaspersky VPN Secure Connection, Quick Heal, Avast Etc.

अंत में 

हमनें इस लेख के माध्यम से आपको “VPN Technology क्या है और इसकी सेटिंग कैसे करे?” के बारें में सम्पूर्ण जानकारी देने प्रयास किया गया है, हमे पूरी उम्मीद है यह जानकारी आपके लिये काफी उपयोगी साबित होगी यदि इस आर्टिकल से सम्बन्धित आपके पास कोई सुझाव हो तो कमेंट बाक्स के माध्यम से आप उसे हम तक पंहुचा सकते है। आप इस जानकारी को अपने दोस्तों और सोशल मिडिया पर जरूर शेयर करे। आपका धन्यवाद!

Read More