शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें, जाने पूरा प्रोसेस।

0
17
शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें
शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें

आज के समय में बढ़ती वित्तीय जागरूकता के कारण अधिक से अधिक लोग स्टॉक और बॉन्ड जैसी वित्तीय संपत्तियों में बिना झिझक निवेश कर रहे हैं। शेयर मार्केट की और बढ़ता रुझान “शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें” ताकि निवेश कर सके ऐसी जानकारियों की आज इंटरनेट पर भरमार है।

शेयर मार्केट में पूंजी निवेश करने से आपके पोर्टफोलियो में विविधता लाने में भी मदद मिलती है। अगर आप लंबी अवधि के लिए इन्वेस्ट कर रहे है तो इक्विटी को अच्छा रिटर्न देने के लिए जाना जाता है। तो आज इस लेख शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें इस पर चर्चा करेंगे क्योकि निवेश के लिए उचित वित्तीय ज्ञान के साथ इक्विटी मार्केट में निवेश के लिए ट्रेडिंग अकाउंट, डीमैट अकाउंट और बैंक अकाउंट की जरूरत होती है।

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें

जब कोई निवेशक इक्विटी मार्केट में निवेश करता हैं, तो वह पैसे के बदले शेयर खरीदता हैं। निवेशकों द्वारा खरीदे गए इन शेयरों को एक प्रमाणित डिपॉजिटरी द्वारा स्टोर किया जाता है। यही डिपॉजिटरी अपने निवेशकों को एक यूनिक डीमैट अकाउंट प्रदान करते हैं जो उनके स्टॉक होल्डिंग्स को सुरक्षित रूप से स्टोर करके रखते हैं।

जब कोई निवेशक अपने शेयर को बेचता है तो उन शेयर को उसके डीमैट अकाउंट से हटा दिया जाता है। डीमैट अकाउंट में केवल शेयर स्टोर होते हैं औरपैसे आपके बैंक अकाउंट में आते है, तो शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें यहाँ इसकी भूमिका होती है। शेयर मार्केट में अकाउंट होना एक तरह से एक निवेशक के लिए ट्रेडिंग अकाउंट, डीमैट अकाउंट और बैंक अकाउंट के बीच की सामान्य कड़ी है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

ट्रेडिंग अकाउंट के द्वारा शेयरों की खरीद और बिक्री की जाती है। यदि आप इक्विटी शेयरों में व्यापार करना चाहते हैं, तो आपको अनिवार्य रूप से एक ट्रेडिंग अकाउंट बनाना होगा। लेकिन यदि आप केवल पब्लिक ऑफरिंग में ही डील करते हैं, तो आपको ट्रेडिंग अकाउंट की आवश्यकता नहीं होती है।

क्योंकि जब आप कोई शेयर खरीदते है तो स्वचालित रूप से आपके डीमैट अकाउंट में स्टोर हो जाते हैं। लेकिन उन शेयरों को बेचने या अन्य शेयरों को खरीदने के लिए आपको हमेशा एक ट्रेडिंग अकाउंट की आवश्यकता होगी। इसी को आगे बढ़ाते हुऐ शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें इसकी प्रक्रिया को आगे समझते है।

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें
शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें उसकी प्रक्रिया

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें उसके लिए आपको सबसे पहले एक ब्रोकर फर्म को चुनना होगा। यहाँ यह ध्यान दे की ब्रोकर मूल रूप से दो प्रकार के होते हैं – डिस्काउंट और फुल सर्विस ब्रोकर। यह वर्गीकरण उनके द्वारा प्रदान किए जाने वाले अकाउंट के प्रकार और उसके साथ की सेवाओं के आधार पर किया जाता है।

डिस्काउंट ब्रोकर, यह आपको नो-फ्रिल्स ट्रेडिंग अकाउंट प्रदान करते हैं जो बिना किसी अतिरिक्त सेवाओं के आपको शेयर को खरीदने और उन्हें बेचने की सुविधा प्रदान करते हैं।

फुल-सर्विस ब्रोकर, यह आपको ट्रेडिंग अकाउंट के साथ रिसर्च, रिकमेन्डेशन, वित्तीय डेटा और कई अन्य सेवाएं प्रदान करते हैं। इसलिए जब आप एक बार ब्रोकर को तय कर लेते हैं, तो सबसे पहले बाजार में उसकी विश्वसनीयता की जाँच जरूर करें।

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें यह उसके लिए एक बेसिक जानकारी है। वैसे भारत में शेयर मार्केट में धोखाधड़ी करना बहुत आसान नहीं है, और शायद ही अपने इसके बारे में कभी सुना होगा। जब आप विश्वसनीयता के साथ ब्रोकर फर्म को चुन लेते है तो आप उनके कार्यालय और ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर इंटरफ़ेस पर बारीकी से ध्यान रखें।

एक सॉफ्टवेयर इंटरफ़ेस ट्रेडिंग में एक महत्वपूर्ण कारक होता है क्योंकि व्यापार करते समय एक आउटडेटिड इंटरफ़ेस नुकसान का कारण बन सकता है। ब्रोकर को चुनने के बाद आप आगे की कार्यवाही के लिए उनके कार्यालय जाकर फिजिकली फॉर्म जमा कर सकते हैं या उनकी वेबसाइट पर ऑनलाइन फॉर्म भर सकते हैं।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

उसके बाद उस ब्रोकरेज फर्म का एक प्रतिनिधि आपको शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें उसके आवेदन की प्रक्रिया में आपकी मदद करेगा और आपको आवश्यक दस्तावेजों के बारे में जानकारी देगा। यह ध्यान रखे की अधिकांश ब्रोकर डीमैट के साथ ट्रेडिंग अकाउंट की सुविधा भी देते हैं।

क्योकि यदि आप केवल डीमैट अकाउंट चुनते है तो आप केवल ऑप्शंस और फ्यूचर्स में ही ट्रेड कर सकते हैं, लेकिन यदि आप इक्विटी में ट्रेड करना चाहते हैं, तो आपको एक ट्रेडिंग अकाउंट भी चाहिए।

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें उसके आवश्यक दस्तावेज़

अधिकांश सेवाओं की तरह, ट्रेडिंग अकाउंट के लिए एड्रेस प्रूफ और आइडेंटिटी प्रूफ जमा करना होगा। ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए पैन कार्ड अनिवार्य है।

पहचान के लिए आप पासपोर्ट, वोटिंग आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस या आधार कार्ड जमा कर सकते हैं। एड्रेस के लिए टेलीफोन बिल, बिजली बिल और पानी बिल जैसे डॉक्यूमेंट जमा कर सकते है।

मैनुअल केवाईसी प्रक्रिया के लिए पैन कार्ड, एड्रेस प्रूफ और आइडेंटिटी प्रूफ की एक फोटोकॉपी के साथ ओरिजनल भी दिखाना होगा।

कुछ ब्रोकर टेलीफ़ोनिक या मैन्युअल वेरिफिकेशन भी करते हैं। डॉक्यूमेंट जमा होने के 3-4 दिन बाद ब्रोकर फर्म द्वारा आपका ट्रेडिंग अकाउंट एक्टिवेट कर दिया जाता है। शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें उसके लिए इस प्रक्रिया को आप समझ गए होंगे।

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें उसकी ई-केवाईसी प्रक्रिया

यदि आप शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें उसके लिए मैनुअल केवाईसी प्रक्रिया से बचना चाहते हैं, तो आप आधार कार्ड के माध्यम से ई-केवाईसी ऑप्शन को चुन सकते हैं। ई-केवाईसी प्रक्रिया के लिए, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपका आधार कार्ड, आईडी, पैन कार्ड आपके बैंक अकाउंट से जुड़ा हुआ हो।

आधार कार्ड से जुड़ा हुआ मोबाइल नंबर ही ट्रेडिंग अकाउंट एप्लिकेशन में सबमिट करे। आधार वेरिफिकेशन में वन-टाइम पासवर्ड के माध्यम से ऑनलाइन प्रोसेस किया जाता है। जिसमे आपको पैन कार्ड की कॉपी और कैंसिल चेक भी ऑनलाइन अपलोड करना होगा। डाक्यूमेंट्स को जमा करने के बाद, आपको वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग या ब्रोकर की निकटतम ऑफिस में जाकर खुद को वेरीफाई करना होगा।

अंत में निष्कर्ष

इंटरनेट के आने से शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें इसकी प्रक्रिया और शेयर मार्केट में निवेश करना काफी आसान हो गया है। ब्रोकर्स ने ट्रेडिंग की इस प्रक्रिया को काफी सरल बना दिया है, जो पूंजी बाजार में लगातार बढ़ती भागीदारी का एक बड़ा कारण भी है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है