डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान – जाने हिंदी में।

0
92
डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान
डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान

आजकल, डीमैट अकाउंट खोलकर स्टॉक ट्रेडिंग करना न केवल विशिष्ट क्लबों के लिए उपलब्ध है बल्कि यह अब औसत निवेशक के लिए भी सुलभ हो चुका है। इसलिए डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान क्या है इसे समझना हर निवेशक के लिए जरूरी हो गया है। ताकि डीमैट अकाउंट के नुकसान को कम कर सके।

ऑनलाइन ट्रेडिंग गतिविधियों को संचालित करने के लिए डीमैट अकाउंट प्रणाली 1996 में भारतीय प्रतिभूति और विनयम बोर्ड (SEBI) द्वारा शुरू किया गया जिसके कारण यह ट्रैडिंग सरल हो गया है। लेकिन जब से स्टॉक ट्रेडिंग ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर स्थानांतरित हुई है, इसने फिज़िकल शेयर लॉस, जालसाजी, धोकेबाजी और चोरी की संभावना को बढ़ा दिया है। इसलिए यह जानकारी डीमैट अकाउंट के नुकसान को कम करने में मदद करेगी।

डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान 

वर्तमान समय में, शेयर मार्केट में ऑनलाइन व्यापारिक गतिविधियों को सुचारु रूप से चलाने के लिए सभी व्यापारियों और निवेशकों के पास अपना एक डीमैट अकाउंट का होना आवश्यक है। इसलिए, हम इस लेख में हम डीमैट खाते के फायदे और नुकसान क्या है इसे समझने का प्रयास करेगे।

हमने यहा कुछ ठोस बिंदुओ को प्रस्तुत किया हैं जो डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान को विस्तार से समझने में आपकी सहायता करेंगे।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान
डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान

डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान निम्नलिखित हैं:

डीमैट अकाउंट के फायदे  डीमैट अकाउंट के नुकसान
अधिक सुविधाजनक साइबर अपराध की संभावना
अधिक सुरक्षा भौतिक कब्जे का अभाव
तेज़ लेनदेन सीमित पहुंच
ऑटो अपडेट की सुविधा तकनीकी त्रुटियां की संभावना
कोस्ट – ईफेक्टिव बिचौलियों पर निर्भरता

आइये डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान को विस्तार से समझते है

डीमैट अकाउंट के फायदे

डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान को विस्तार से समझने के लिए सबसे पहले हम डीमैट अकाउंट के फायदे को समझते है, जो इसप्रकार है:-

सुविधा – डीमैट अकाउंट के फायदे में यह है की सभी तरह के कागजी प्रमाणपत्रों को फिज़िकल रूप की अपेक्षा उन्हे ऑनलाइन प्रक्रिया से आसानी से खरीद और बेच सकते हैं। यह प्रक्रिया आपके समय और होने वाली परेशानी से बचा लेती है।

सुरक्षा – डीमैट अकाउंट के फायदे में दूसरा सुरक्षा है जो सभी प्रतिभूतियों के इलेक्ट्रॉनिक संस्करणों को फिज़िकल प्रमाणपत्रों के रूप में रखने की तुलना में अधिक सुरक्षित बनाता है, क्योंकि फिज़िकल डॉक्यूमेंट खो सकते हैं, चोरी हो सकते हैं या फिर क्षतिग्रस्त हो सकते हैं।

तेज़ लेन-देन प्रक्रिया – डीमैट अकाउंट इलेक्ट्रॉनिक रूप से प्रतिभूतियों की ऑनलाइन खरीद और बिक्री को सरल बना देते हैं, इसमे लेन-देन की पारंपरिक पेपर-आधारित तरीकों की तुलना में बहुत तेज़ी से काम किया जाता है, जो डीमैट अकाउंट के फायदे में से है।

ऑटोमैटिक अपडेट – आपके डीमैट अकाउंट के फायदे में यह है की आपका डीमैट अकाउंट ऑटोमैटिक रूप से आपके स्वामित्व वाली प्रतिभूतियों के बारे में उपलब्ध नवीनतम जानकारी से स्वत: ही अपडेट हो जाता है, ताकि आप हमेशा अपने ऑनलाइन निवेश की प्रक्रिया में के शीर्ष पर बने रहे।

कोस्ट ईफेक्टिव – डीमैट अकाउंट में लेनदेन की लागत पारंपरिक पेपर-आधारित तरीकों की तुलना में कम आती है जो डीमैट अकाउंट के फायदे में काफी महत्वपूर्ण है जो लंबे समय में आपका काफी पैसा बचाती है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान
डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान

डीमैट अकाउंट के नुकसान

डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान को समझते हुए आइये अब डीमैट अकाउंट के नुकसान को विस्तार से समझते है, जो इसप्रकार है:-

साइबर अपराध के प्रति संवेदनशील – डीमैट अकाउंट आपके सभी डिजिटल शेयरों और प्रतिभूतियों को स्टोर करके रखता हैं, जो हैकर्स और साइबर अपराधियों के लिए एक प्रमुख लक्ष्य बन सकता है यह डीमैट अकाउंट के नुकसान में से एक है जो आपको वित्तीय नुकसान और पहचान की चोरी की संभावना को बढ़ा देता है।

फिज़िकल कब्जे की कमी – डीमैट अकाउंट के साथ, आप फिज़िकल रूप से आपने द्वारा खरीदे गए सभी ऑनलाइन शेयरों या प्रतिभूतियों के मालिक नहीं होते हैं। जो डीमैट अकाउंट के नुकसान है इसका मतलब यह है कि आपके पास फिज़िकली मालिकाना का कोई भौतिक प्रमाण नहीं होता है, ऐसी स्थिति में किसी विवाद होने पर आपकी संपत्ति को सत्यापित करना मुश्किल हो सकता है।

सीमित पहुंच – डीमैट अकाउंट के नुकसान में यह है की सभी बैंक या वित्तीय संस्थान डीमैट अकाउंट की पेशकश नहीं करते हैं, जिससे कुछ लोगों के लिए इस सेवा का उपयोग करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। इसके अलावा, कुछ क्षेत्रों में खराब इंटरनेट कनेक्टिविटी भी बड़ा कारण हो सकती है, जिससे आपके डीमैट अकाउंट को ऑनलाइन एक्सेस करना बड़ा मुश्किल हो सकता है।

तकनीकी समस्याए – डीमैट अकाउंट के नुकसान में यह है की यह अकाउंट टेक्नॉलजी पर बहुत अधिक निर्भर करते हैं, और किसी भी तकनीकी समस्या या किसी गड़बड़ी से आपके ऑनलाइन लेन-देन में प्रॉब्लम हो सकती हैं या डेटा हानि की संभावना भी हो सकती है। यह एक निराशाजनक और हल करने में समय लेने वाला कारण हो सकता है।

बिचौलियों पर निर्भरता – डीमैट अकाउंट के नुकसान में एक कारण इन डीमैट अकाउंटस में लेन-देन की सभी तरह की प्रक्रिया के लिए डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स (डीपी)/ब्रोकर जैसे मध्यस्थों की सेवाओं पर निर्भर रहना होता है। जिससे आपका अतिरिक्त शुल्क लगता है और इससे त्रुटियों होने की संभावना भी बढ़ जाती है।

डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान पर निष्कर्ष

इसलिए, इस लेख में, हमने डीमैट अकाउंट के क्या फायदे और नुकसान पर चर्चा की। और डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान को तुलनात्मक रूप से समझाने का प्रयास किया हैं। इसलिए यदि आप भी शेयर बाजार में निवेश करने के इच्छुक हैं, तो आपको अपना डीमैट अकाउंट किसी सही ब्रोकर फर्म में खोलने की आवश्यकता है। जो आपके लिए ऑनलाइन स्टॉक ट्रेडिंग प्रक्रिया की उच्च-स्तरीय सुरक्षा और पारदर्शिता को सुनिश्चित कर सके।

साथ ही कई सरकारी और गैर सरकारी बैंक भी मुफ्त में डीमैट अकाउंट खोलने की सुविधा प्रदान कर रहे हैं। साथ ही, इस प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए कई अन्य तरह के एप्लिकेशन भी बाजार में उपलब्ध हैं। मुझे आशा है कि आप शेयर मार्केट में डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान को समझ गए होंगे। इस प्रकार, यदि आपको लगता है कि यह लेख आपके लिए उपयोगी है तो इसे आप अपने मित्रों के साथ शेयर करके हमारी मदद कर सकते है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है