सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें – जाने ऑनलाइन और ऑफलाइन तरीके।

0
87
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड भारत सरकार की ओर से भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी किए गए गोल्ड बॉन्ड होते हैं। यहां इस आर्टिकल में आपको बतायेगे की सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें इसका तरीका क्या है।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में सोने को प्रति यूनिट के आधार पर बेचा जाता है जिसमे प्रत्येक यूनिट सोने का मूल्य 999 शुद्धता वाले एक ग्राम सोने के तत्कालिक बाजार मूल्य के आधार पर तय किया जाता है। और इस मूल्य की गणना सब्सक्रिप्शन अवधि से पहले नवीनतम तीन कार्य दिवसों के लिए सोने के क्लोजिंग रेट के औसत को लेकर तय की जाती है।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें उसके लिए यह ध्यान रखे की गोल्ड का क्लोजिंग रेट इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन लिमिटेड (IBJAL) द्वारा जारी किया जाता हैं। गोल्ड बॉन्ड के रिडेम्पशन मूल्य की गणना भी IBJAL से जारी नवीनतम डेटा के आधार पर ही की जाती है।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें

हर वित्तीय वर्ष के दौरान विभिन्न चरणों में आरबीआई द्वारा सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड जारी किए जाते हैं। ये गोल्ड बॉन्ड बैंकों, दलालों, डाकघरों और ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से उपलब्ध कराई जाते हैं। ऑनलाइन सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीदने को बढ़ावा देने के लिए उन्हें डिजिटल रूप से खरीदने वाले निवेशकों को प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट की पेशकश की जाती है।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें उसमे यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आरबीआई साल भर बाजार में बिक्री के लिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की नई श्रृंखला लाता है। इसलिए, यदि आप पिछले श्रृंखला में चूक गये हैं, तो आप हमेशा अगले अंक की घोषणा की प्रतीक्षा कर सकते हैं।

निवेशक सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को फिजिकल, डिजिटल या डीमैटरियलाइज्ड फॉर्मेट में खरीद सकते हैं। एक बार भौतिक रूप से खरीदे जाने के बाद, निवेशक विशिष्ट अनुरोध करके इन बांडों को अपने डीमैट खातों में जमा करवा सकते हैं। उसके बाद अंत में आरबीआई इनके डिमटेरियलाइजेशन की प्रक्रिया करता है, उससे पहले तक आरबीआई अपनी किताबों में इन गोल्ड बॉन्ड को होल्ड करता हैं।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड के आवंटन के बाद डीमैटरियलाइजेशन भी किया जा सकता है। खासकर जो निवेशक सीधे आरबीआई से खरीदारी नहीं कर रहे हैं, वे सेकेंडरी मार्केट यानी स्टॉक एक्सचेंज से गोल्ड बॉन्ड यूनिट को खरीद सकते हैं।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें – ऑनलाइन

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को कुछ कमर्शियल बैंकों की वेबसाइटों के माध्यम से ऑनलाइन खरीदा जा सकता है। ऑनलाइन गोल्ड बॉन्ड खरीदते समय आप निम्नलिखित सामान्य चरणों का पालन कर सकते हैं।

  • Step 1: पसंदीदा बैंक के इंटरनेट बैंकिंग खाते में लॉग इन करें।
  • Step 2: “ई-सेवा” विकल्प पर क्लिक करें और फिर “सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड” विकल्प चुनें।
  • Step 3: आरबीआई द्वारा निर्धारित “नियम और शर्तें” और “आगे बढ़ें” को ध्यान से पढ़ें।
  • Step 4: रजिस्ट्रेशन फॉर्म को पूरा करें और “सबमिट करें” चुनें।
  • Step 5: परचेज फॉर्म में सब्सक्रिप्शन की मात्रा और नॉमिनी का विवरण डालें।
  • Step 6: अब, विवरण सत्यापित करने के बाद “सबमिट” विकल्प पर क्लिक करें।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें – ऑनलाइन ये उसके कुछ स्टेप्स है जिनका पालन करके आप किसी भी बैंक से गोल्ड बॉन्ड खरीद सकते है 

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें – ऑफलाइन

इंडिया पोस्ट हर साल सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की घोषणा करता है। जहाँ से कोई भी वयक्ति ऑफलाइन सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीद सकता है। यह सुविधा प्रधान डाकघर में उपलब्ध होती हैं।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड निवेश से लिए सुरक्षित माना जाता है। कोई भी निवेशक इस योजना के तहत प्रत्येक वित्तीय वर्ष के लिए अधिकतम 4 किलो और न्यूनतम 1 ग्राम निवेश कर सकता है। जिसमे निवेशक को अर्ध-वार्षिक देय 2.50% प्रति वर्ष की निश्चित दर पर मुआवजा दिया जाएगा।

गोल्ड बॉन्ड की अवधि आठ वर्ष के लिए होगी, जिसमें पांचवें वर्ष के बाद समय से पहले बंद करने की सुविधा होगी। गोल्ड बॉन्ड का उपयोग ऋण के लिए कोलैटरल के रूप में किया जा सकता है।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें वो भी ऑफलाइन तरीके से तो कोई भी निवेशक आवेदन पूरा करके सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड प्राप्त कर सकता है और पैन कार्ड, आधार कार्ड/पासपोर्ट/वोटर आईडी और बैंक पासबुक के पहले पृष्ठ की प्रति के साथ डाकघर में जमा कर सकता है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीदने के लाभ

भौतिक सोना खरीदने के लिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड एक बेहतरीन विकल्प है। इसके निम्नलिखित लाभ हैं जिनके बारे में निवेशकों को सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें उससे पहले इसके फायदे का पता होना चाहिए।

  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड बेहद सुरक्षित हैं और भौतिक सोने की तरह इसे संभालने में कोई जोखिम शामिल नहीं है।
  • निवेशक इश्यू वैल्यू पर 2.50% प्रति वर्ष की ब्याज दर सुनिश्चित कर सकते हैं।
  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड पर कोई लागू कर कटौती नहीं है।
  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की कीमत 999 शुद्धता वाले सोने की कीमत से जुड़ी होती है।
  • ऋण के लिए आवेदन करने के लिए बांड को कोलैटरल के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • गोल्ड बांड की अवधि आठ साल के लिए है, लेकिन भुनाई गई राशि और ब्याज पर सॉवरेन गारंटी के साथ, पांच साल के बाद रिडेम्पशन सुविधा के साथ।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीदने में जोखिम

यदि आप यह विचार कर रहे की सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे ख़रीदे तो उससे पहले इसके कुछ जोखिम पर विचार करते है। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीदते वक्त यह याद रखे की यदि सोने का बाजार मूल्य उसके लागत मूल्य से कम हो जाता है तो हानि का जोखिम होता है। यह गोल्ड निवेश के सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम रूप में कोई विशिष्ट जोखिम नहीं है, बल्कि जोखिम निवेश के सामान्य रूप पर लागू होता है।

हालांकि, आरबीआई यह आश्वासन देता है कि उसे आवंटित सोने की मात्रा के मामले में निवेशक को कभी नुकसान नहीं होगा।

अंत में निष्कर्ष

हमने इस लेख सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड कैसे खरीदें के माध्यम से इसकी प्रक्रिया को बताने का प्रयास किया है। वैसे सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को आठ साल की अवधि के लिए खरीदना और रखना आसान है और 2.50% प्रति वर्ष की ब्याज दर का भुगतान अर्धवार्षिक रूप से किया जाता है।

प्रत्येक व्यक्ति की खरीद प्रति वित्तीय वर्ष अधिकतम 4 किग्रा तक सीमित है और ट्रस्ट के मामले में यह 20 किग्रा तक सीमित है। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की खरीद के लिए एकमात्र अनिवार्य दस्तावेज पैन कार्ड है जिसके बिना इन बांडों में निवेश की अनुमति नहीं है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है