Off-Page SEO techniques को जाने Google Experts की नजरों से।

0
66
Off-Page SEO

हालाँकि, जो लोग इंटरनेट मार्केटिंग/ब्लॉग्गिंग या किसी ऑनलाइन वयवसाय में नए हैं, उनके लिए “Off-Page SEO” का कोई मतलब नहीं हो सकता है।

Off-Page-SEO techniques किसी भी वेबसाइट को सफल बनाने की रणनीतियों के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक है।

यदि आप अपनी साइट को Google पर रैंक करना चाहते हैं और 2022 में अपने ब्लॉग या ब्रांड की Visibility और Organic Search Traffic को बढ़ाना चाहते हैं, तो आपको अपनी वेबसाइट के दायरे से बहार देखने की आवश्यकता है।

इस आर्टिकल में, हम Off-Page-SEO techniques की गहराई से गोता लगाने जा रहे हैं और जो आपको यह समझने में मदद करेंगा कि यह क्या है, यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है, और यदि आप Google पर रैंक करना चाहते हैं तो आपको इसके विकास को बढ़ावा देना होगा और उसके लिए आपको किन Techniques का उपयोग करने की आवश्यकता है यह जानना होगा।

ऑफ-पेज एसईओ तकनीक क्या है हिंदी में? What is Off-Page SEO techniques in Hindi?

Off-Page-SEO technique क्या है, अगर हम इसे संक्षेप में परिभाषित करें, तो इसमें आपकी अपनी वेबसाइट के बाहर होने वाली सभी Techniques को शामिल किया जाता है।

अक्सर इसे लोग केवल Link Building तक ही सिमित कर देते है, लेकिन यदि वास्तव में, आप Competitive Advantage को ध्यान में रखकर लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको Off-Page-SEO techniques को और व्यापक तोर पर लागु करना होंगा।

Brand Building, Profile Building, Content Marketing, सोशल मीडिया, और बहुत कुछ ऐसी रणनीतिया एक Comprehensive SEO Strategy में एक महत्वपूर्ण भूमिका को निभाते हैं।

लेकिन Off-Page-SEO techniques को एक सरल व्याख्या के रूप में देखें, तो इसमें आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली वह सभी रणनीति शामिल है, लेकिन जिसमें वेबसाइट को टेक्नीकली ऑप्टिमाइज़ करना और वेबसाइट पर कंटेंट को पब्लिश करना शामिल नहीं है।

अगर आप SEO के इन संकेतों को सही समझ लेते है तो यह Search Engine और Users दोनों आपको आपकी वेबसाइट की Authority को बढ़ाने में मदद करते हैं और इसका उपयोग आप Trust और Relevancy के रूप में कर सकते है।

लेकिन इसके लिए आप बस इस तरह से सोचें:

आपकी वेबसाइट = On-Page SEO

दूसरी वेबसाइट या प्लेटफॉर्म = Off-Page SEO

लेकिन इन चीजों में जो जटिलता है उसे तकनीकी रूप से समझकर आपको Google पर रैंक करना पड़ता है। इसके लिए हमे इन चीजों को स्पष्ट रूप से समझने के लिए, SEO techniques के तीन मुख्य दृष्टिकोणों को अधिक गहराई से समझना होगा।

ऑन-पेज एसईओ, ऑफ-पेज एसईओ और तकनीकी एसईओ के अंतर को हम कैसे समझें? What is the difference in On-Page SEO, Off-Page SEO and Technical SEO?

लगभग सभी SEO Techniques को तीन भागों में से एक में वर्गीकृत किया जा सकता है:

  1. On-Page SEO
  2. Off-Page SEO
  3. Technical SEO

SEO के दृष्टिकोण से इनमें क्या अंतर है? लेकिन हम काफी सरलता से, इन तीनों को इस प्रकार परिभाषित कर सकते हैं:

On-Page SEO techniques में उन सभी युक्तियों को शामिल किया जाता है जिनका उपयोग आप अपनी वेबसाइट पर करते हैं जो Search Engine को आपके Content को बेहतर ढंग से समझने और उसे Rank करने में मदद करते हैं। आपकी वेबसाइट पर बढ़िया कंटेंट बनाने से लेकर, टाइटल टैग, मेटा टैग और हैडिंग टैग उसके साथ Internal Linking, इमेज ऑप्टिमाइजेशन, और ऐसी ही कुछ ऑप्टिमाइजेशन तकनीक – ये सभी On-Page SEO के अंतर्गत आती हैं।

Off-Page SEO techniques में वे सभी रणनीतियां शामिल हैं जो आपकी अपनी वेबसाइट के दायरे से बाहर की गतिविधियों से संबंधित हैं। इसके लिए मुख्यत Link Building यानिकि Backlinks को अक्सर मुख्य Off-Page SEO techniques के रूप में ही माना जाता है, लेकिन इसमें कंटेंट मार्केटिंग, सोशल मीडिया, पॉडकास्ट पर दिखाई देना, Landing Analysis, लोकल प्रोफाइल का निर्माण, और बहुत कुछ शामिल है।

Technical SEO techniques उन चीजों को शामिल करता है जो सर्च इंजन द्वारा आपकी वेबसाइट के इंडेक्सिंग और क्रॉलिंग को सीधे प्रभावित करते हैं।  इसके लिए कुछ Experts का तर्क है कि यह सब On-Page SEO के अंतर्गत आता है। हालाँकि, इसे व्यापक रूप से आप अपने लिए एक अनुशासन मान सकते है: जिसमे वेबसाइट स्पीड ऑप्टिमाइजेशन, Structured Data, Hreflang, और Technical SEO के सभी वर्ग शामिल है।

 On-Page-SEO

Off-Page-SEO 

Technical SEO 

 कंटेंट  

  लिंक बिल्डिंग  

 वेबसाइट स्पीड 

 मेटा टैग 

 कंटेंट मार्केटिंग 

 स्ट्रक्चर्ड डाटा  

 हैडिंग टैग 

 सोशल मीडिया 

 XML Sitemap 

 इंटरनल लिंकिंग 

 गेस्ट पोस्टिंग 

 सोर्स कोड 

 इमेज ऑप्टिमाइजेशन 

 विजिटर रिव्यु 

 Hreflang tags

 & more

 & more

 & more

ऑफ-पेज एसईओ क्यों महत्वपूर्ण है? Why Off-Page SEO techniques is so Important?

Google किसी भी विशेष पेज/वेबसाइट को रैंक करने से पहले कई कारकों पर विचार करता है और Off-Page SEO techniques उनमें से एक है। केवल Content के माध्यम से रैंक करना मुश्किल होता है; और इसी जगह पर आपका Off-Page SEO या Link Building एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह, एक तरह से, Google को बताता है कि दूसरी वेबसाइट आपकी साइट के बारे में क्या सोचते हैं, और इसलिए एक Quality बैकलिंक्स होने के कारण, आपकी वेबसाइट की Relevancy महत्वपूर्ण हो जाती हैं।

Off-Page SEO activities में सबसे महत्वपूर्ण क्या है, तो इसका जवाब यह है की Off-Page SEO activities में सबसे महत्वपूर्ण होता है Link Building, जो की दो प्रकार के होते हैं:

  1. Do-Follow Link 
  2. No-Follow Link

Do-Follow Link यह एक प्रकार से लिंक का डिफ़ॉल्ट रूप है जो Google बॉट्स या स्पाइडर को लिंक जूस या वैल्यू के साथ उस लिंक के द्वारा किसी वेबपेज से लिंक करने की अनुमति देता है। उदाहरण के लिए: यदि HINDI WEB BOOK वेबसाइट एक नया आर्टिकल पब्लिश करती है और अपने आर्टिकल में उपयोग किये गये डाटा के सन्दर्भ के लिए किसी दूसरी वेबसाइट REAL WEB INFO के आर्टिकल को Do-Follow Link प्रदान करती है।

तो यहाँ इसका मतलब है कि HINDI WEB BOOK वेबसाइट ने अपना कुछ मूल्य REAL WEB INFO को दिया है। यह REAL WEB INFO को बेहतर पेजरैंक प्राप्त करने और SERP पर बेहतर रैंक प्राप्त करने में मदद करेगा। Do-Follow Link का उपयोग करने का सबसे अच्छा तरीका किसी एक Relevant Keyword को Anchor Text के रूप में जोड़ना होता है।

Google आपकी वेबसाइट पर मिलने वाले Do-Follow Link की संख्या और उनके द्वारा प्राप्त किए गए अलग-अलग डोमेन की संख्या को देखता है। जितने Multiple और Relevant डोमेन से आने वाले Do-Follow Link की संख्या जितनी अधिक होगी, उतना ही अधिक वैल्यू आपकी वेबसाइट को मिलेंगी।

Do-Follow Link को इस प्रकार Define करते है:

<a href=”https://www.hindiwebbook.com”>HINDIWEBBOOK MARKETING</a>

No-Follow Link का अर्थ यह होता है कि Google बॉट या स्पाइडर ऐसे लिंक का अनुसरण नहीं करते। वे लिंक लिए गये वेबपेज पर कोई Link Juice या वैल्यू को पास नहीं करेंगे जहां से वह जुड़ा हुआ है। क्योकि इस तरह के लिंक से कोई वैल्यू पास नहीं होती इसलिए No-Follow Link का वेबसाइट की रैंकिंग पर कोई खास प्रभाव नहीं पड़ता। वैसे Web Spam को रोकने के लिए ही No-Follow Link पेश किए गए थे।

Off-Page SEO

No-Follow Link को इस प्रकार Define करते हैं:

<a href=”https://www.hindiwebbook.com” rel=”nofollow”>HINDIWEBBOOK MARKETING</a>

ऑफ-पेज एसईओ गतिविधि कितने प्रकार की होती है? Types Of Off-Page SEO activities in Hindi.   

हमारे अनुभव में off-page SEO activities को हम 11 भागों में विभाजित कर सकते है, जो इस प्रकार है:

1.) Brand Mentions

2.) Commenting

3.) Forums

4.) Influencer Outreach

5.) Guest Author

6.) Broken Link Building

7.) Social Networking

8.) Social Bookmarking

9.) Content Marketing

10.) Questions & Answers

11.) Newsletters

आपको अपनी वेबसाइट के लिए Off-Page SEO की आवश्यकता क्यों है?

Off-Page SEO techniques वेबसाइट की पहचान और डोमेन अथॉरिटी बनाने में मदद करता है। इसके बिना, आपकी साइट लगातार अन्य वेबसाइटों से नीचे रैंक करेगी जिनके पास पहले से ही अधिक महत्वपूर्ण लीड है। जबकि लिंक केवल Off-Page संकेत नहीं हैं कि Google का एल्गोरिदम किसी साइट को रैंक करने के लिए लागू होता है, यह शायद बहुत से सबसे महत्वपूर्ण है।

हालाँकि, कई अन्य Off-Page SEO techniques या रणनीतियाँ हैं जिनका आपको अभ्यास करना चाहिए। यह Off-Page SEO कंटेंट मार्केटिंग से सफलता हासिल करने और ब्रांड निर्माण में मदद करेगा।

सीधे शब्दों में कहें तो, ब्रांड Off-Page SEO के बिना प्रतिस्पर्धी खोज शब्दों में रैंक करने के लिए संघर्ष करेंगे।

Off-Page SEO Factors क्या है?   

Off-Page SEO करते समय हमे कुछ महत्वपूर्ण Factors को ध्यान में रखना चाहिए?

नीचे कुछ Off-Page SEO Factors पर विचार किया गया है:

  1. Domain Authority
  2. Relevance
  3. Site Traffic
  4. Link Type

चलिए इन्हें एक एक करके समझते है: 

  • Domain Authority

Domain Authority एक प्रकार का Analysis है या सरल भाषा में कहे यह वेबसाइट का स्कोर कार्ड है जिसे Moz Company द्वारा Websites के प्रदर्शन को Analysis करने के लिए बनाया गया था। Off-Page Activities करते समय डोमेन ऑथोरिटी पर विचार जरूर करना चाहिए। 

डोमेन ऑथोरिटी यानिकि शॉर्ट शब्दों में DA, एक वेबसाइट की Quality को दर्शाता है। यदि कोई Backlink एक High DA वाली वेबसाइट से Do-Follow Link के रूप में Low DA वाली वेबसाइट पर जाता है, तो यह Low DA वाली वेबसाइट को बेहतर पेजरैंक और SERPs में अच्छी रैंक करने में मदद करता है।

  • Relevance

High DA वेबसाइटों से लिंक प्राप्त करना महत्वपूर्ण है; हालांकि, यह ओर अधिक महत्वपूर्ण तब हो जाता है जब दोनों वेबसाइट एक ही Niche या कंटेंट के हिसाब से Relevant हों।

उदाहरण के लिए यदि आपको एक High DA वाली फैशन ब्रांड वेबसाइट से आपकी वेबसाइट का लिंक मिलता है, लेकिन आपकी वेबसाइट कार डीलरशिप के बारे में है, तो यहाँ इस लिंक का कोई मतलब नहीं होगा, और अगर आपको ऐसे अधिक Irrelevant Backlinks मिलते तो उस स्थिति में गूगल एल्गोरिदम से जुर्माना लग सकता हैं।

  • Site Traffic

फोरम पोस्टिंग, ब्लॉगर्स आउटरीच इत्यादि जैसी Off-Page SEO activities करते समय यह बात ध्यान रखनी चाहिए कि ये वेबसाइट आपकी वेबसाइट पर कितना ट्रैफ़िक ला सकती हैं। 

उदाहरण के लिए यदि आप एक ब्लॉगर आउटरीच या फ़ोरम सबमिशन पर अपनी वेबसाइट को प्रमोट करना चाहते हैं, तो आप क्लिक में SEO मेटा जैसे क्रोम एक्सटेंशन के साथ उन साइट के ट्रैफ़िक की जाँच जरूर करले। एक बार जब आप यह पुष्टि कर लेते हैं कि साइट को प्राप्त होने वाला ट्रैफ़िक पर्याप्त होगा, तो आप उन Activities के साथ आगे बढ़ सकते हैं।

  • Link Type

लिंक बिल्डिंग या Off-Page activities करते समय हम दो प्रकार के लिंक बनाते हैं। जैसा कि ऊपर बताया गया है, जो Do-Follow और No-Follow Links हैं।

वेबसाइट सर्च इंजन में कैसे रैंक होती है? How do a Website Rank in a Search Engine? 

SEO को लेकर अधिकतर नये ब्लॉगर के बीच एक आम गलत धारणा यह होती है कि केवल रैंकिंग के लिए Backlinks ही मायने रखते हैं। वास्तव में ऐसा नहीं है Google एल्गोरिथम कंटेंट को रैंक करने से पहले कई फैक्टर्स पर पूरा ध्यान देता है।

लिंक बिल्डिंग निश्चित तोर पर आपको हाई रैंक तक पहुंचा सकती है। लेकिन इसके साथ ही अन्य SEO टूल भी बहुत जरुरी है इसलिए इनका लाभ भी उठाना चाहिए जो आपकी वेबसाइट और आपके ब्रांड दोनों को बढ़ावा दे सकते हैं सकें।

यहाँ आपको कुछ फैक्टर दिए जा रहे है जिन्हें गूगल एल्गोरिथ्म पेजरैंक करते समय ध्यान रखता है, इसलिए आपको भी इन बातों पर ध्यान से विचार करना चाहिए:

  • Links to Your Website: 42.6%
  • On-Page SEO: 14.9%
  • Domain Name + Domain Age: 10.7%
  • Social Activity: 7.2%
  • Others: 24.6%

ऑफ-पेज एसईओ कितने प्रकार के होते है? Types of Off-Page SEO in Hindi?

Off-Page SEO के लिए लिंक बिल्डिंग एक महत्वपूर्ण घटक माना गया हैं। इससे पहले कि आप बैकलिंक्स बनाना शुरू करें, हमे इसके विभिन्न प्रकारों को समझना आवश्यक है क्योकि ये लिंक आपको वेबसाइट की Off-Page SEO को प्रभावित करते हैं।

Off-Page SEO को लिंक के हिसाब से तीन भागों में विभाजित कर सकते हैं:

  1. Natural Link
  2. Build Links
  3. Created Links

चलिए इन्हे एक-एक करके समझते है:  

  • Natural Links 

आपकी वेबसाइट पर एक नेचुरल लिंक स्वाभाविक रूप से आता है। इसे अर्जित करने के लिए आपको कोई कार्रवाई नहीं करनी होती है। यहाँ सबसे जरुरी होता है आपका कंटेंट जिससे लिंक करने का निर्णय दूसरी वेबसाइट स्वयं लेती है, चाहे वह वेबसाइट आपके ब्रांड का अनुसरण करती हों या सर्च के माध्यम से उन्होंने आपके कंटेंट की खोज की हों।

यानिकि किसी भी तरह से, उन्होंने आपके कंटेंट को मूल्यवान और हाइलाइट करने योग्य पाया।

  • Build Links 

इस प्रकार के लिंक आउटरीच एक्टिविटी से आपकी वेबसाइट पर एक बिल्ट लिंक आता है।

इस लिंक को अर्जित करने के लिए आपको मेहनत करनी होगी, चाहे आपको वेबमास्टर्स, प्रकाशकों, या पत्रकारों तक पहुंचना हो या फिर किसी विज्ञापन अभियान के साथ अपने कंटेंट का प्रचार करना हो, जिससे लोगों तक आपके कंटेंट को पहुंचने में मदद मिले।

भले ही आपने यह लिंक बनाया हो, फिर भी आपने Users के एक वैल्यू को बनाया है।

  • Created Links 

इस तरह के लिंक Website Directory Submission, Forums, या Press Release पर वेबसाइट को सबमिट करने से आपकी वेबसाइट पर एक Created Link आता है।

यह लिंक जानबूझकर और बिना किसी संपर्क के बनाये जाते है। लिंक बिल्डिंग के लिए यह Off-Page SEO activity को Black-Hat SEO के रूप में रजिस्टर्ड की जाती है क्योंकि सर्च इंजन इस तरह की लिंक बिल्डिंग एक्टिविटी को देखते हैं।

इसलिए लिंक बनाते समय, Natural या Created लिंक पर ज्यादा ध्यान दें। 

ऑफ-पेज एसईओ के फ़ायदे क्या है? Benefits of Off-Page-SEO techniques.

Off-Page-SEO techniques के फायदे हैं:
 

More Ranking – “Off-Page-SEO” तकनीकों का उपयोग करके, एक सफल रणनीति के द्वारा SERPs में आपकी वेबसाइट रैंकिंग को बढ़ाने में मदद मिलती है। यह आपको अधिक आर्गेनिक ट्रैफ़िक को आपकी वेबसाइट पर आकर्षित करने में मदद करेगा।

More Exposure – SEO के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि जब आप SERPs पर उच्च रैंकिंग अभियान को शुरू करते हैं, तो आपको अधिक एक्सपोज़र मिलता है, यानी अधिक क्लिक, अधिक विज़िट, अधिक लिंक और सोशल मीडिया पर अधिक उल्लेख। इन सभी एक्टिविटीज की एक श्रृंखला होती है जो एक के बाद एक घटित होती रहती है।

Better PageRank – पेजरैंक Larry page द्वारा शुरू किया गया एक Concept है जो Google की नजर में एक वेबसाइट की Value के बारे में बताता है। इस Concept में वेबपेजों को 1 से 10 के बीच रैंक किया जाता है। जिसकी रैंक जितनी अधिक होगी, Google की नज़र में वह वेबसाइट उतनी ही बेहतर होगी।

ऑफ-पेज एसईओ चेकलिस्ट क्या है? Off-Page SEO Checklist in Hindi. 

यदि आप एक बेहतर Off-Page SEO Checklist in hindi को खोज रहे हैं जो आपकी वेबसाइट के ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक और Google पर रैंक बढ़ाने में आपकी मदद करेगी, तो आप इन बिंदुओं पर विचार कर सकते है।

यहाँ पर हमने 2022 में SEO की सफलता के लिए आवश्यक रूप से कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुओ को ध्यान में रखकर एक चेकलिस्ट को बनाया है, जिनको ध्यान में रखकर आप Off-Page SEO Audit को कर सकते है इसलिए इन बिंदुओं के बारे में आपको जानना आवश्यक है।

  • अपने बैकलिंक प्रोफाइल का मूल्यांकन करें
  • अपने प्रतिस्पर्धियों की बैकलिंक प्रोफाइल को जांचें
  • अपनी आंतरिक लिंकिंग में सुधार करें
  • अपने 404 Errors को ठीक करें
  • अपनी साइट के On-Page SEO को ऑप्टिमाइज़ करें
  • अपने लिंक निर्माण के विकल्पों का आकलन करें
  • Broken Link Building करें 
  • Q & A वेबसाइट पर लोगों के सवाल दे और अपना लिंक सबमिट करें
  • अपनी Web Directory प्रोफाइल को अपडेट करें
  • Paid Ads के साथ अपनी कंटेंट को प्रचार करें
  • गेस्ट ब्लॉगिंग के साथ अपने ज्ञान (और साइट लिंक) को साझा करें
  • सोशल मीडिया पर अपने कंटेंट को पोस्ट करें  

अंत में  

इस लेख के माध्यम से हमने आपको “Off-Page SEO techniques in hindi” के बारे में पूरी जानकारी देने का प्रयास किया है, हमें पूरी उम्मीद है कि यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। अगर आपके पास कोई सुझाव है तो आप कमेंट बॉक्स के जरिए हम तक पहुंच सकते हैं। आप इस जानकारी को अपने दोस्तों और सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें। धन्यवाद!

सम्बंधित जानकारियाँ 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here