सर्दी में रात को पसीना क्यों आता है? तो हो जाइये सावधान।

0
1052
हमे पसीना क्यों आता है
हम अक्सर पसीने को गन्दा और बदबूदार मानते है, लेकिन शरीर में पसीना क्यों आता है वैसे यह हमारे शरीर को प्राकृतिक शीतलता भी प्रदान करता है। जब हमारे शरीर का तापमान व्यायाम, गर्मी, तनाव या हार्मोन शिफ्ट होने से बढ़ता है, तो पसीना आपके आंतरिक तापमान को 98.6 डिग्री फ़ारेनहाइट पर रखने में मदद करता है।

पसीना क्यों आता है क्योंकि पसीना हमारे शरीर से गर्मी को छोड़ने में मदद करता है, जिससे शरीर के अधिकतम तापमान को बनाए रखने में मदद मिलती है। अगर हमें पसीना नहीं आये, तो उस स्थिति में हमारा शरीर सचमुच में अंदर से बाहर तक पक जायेगा।

पसीना क्यों आता है?  

हमारे शरीर से जो पसीना निकलता है उसमे ज्यादातर पानी होता है इसके अलावा उसमे सोडियम क्लोराइड, पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम भी होता है। ऐसे व्यक्ति जो शारीरिक रूप से फिट नहीं है वह शारीरिक रूप से फिट व्यक्ति की तुलना में पसीना आने पर अधिक सोडियम को खो देते है। लेकिन हर किसी का पसीना थोड़ा अलग होता है।

कुछ व्यक्ति में दूसरों की तुलना में ज्यादा पसीना क्यों आता है ऐसे वयक्ति अपने पसीने से अधिक मात्रा मे सोडियम को खो देते हैं। यदि आपका पसीना नमकीन है और वह आपकी आंखों में चुभ रहा है तथा आप अपनी त्वचा पर किरकिरापन भी महसूस कर रहे है, तो इसका अर्थ है की आप सोडियम को खो रहे हैं, जिसे आप किसी भी स्पोर्ट्स ड्रिंक को पीकर ठीक कर सकते हैं।

पसीना क्यों आता है उसके कारण क्या है?

पसीना क्यों आता है और हमारे शरीर द्वारा उत्पादित पसीने की मात्रा विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है:

  • शरीर का आकार

बड़े शरीर वाले लोगों को ज्यादा पसीना क्यों आता है क्योंकि ऐसे लोग अधिक गर्मी को उत्पन्न करते हैं। उन्हें अपने बड़े शरीर के कारण अधिक शारीरिक द्रव्यमान को स्थानांतरित करना पड़ता है, जिससे अधिक गर्मी उत्पन्न होती है और ज्यादा पसीना आता है। शरीर बड़ा होने के कारण उसे ठंडा करने के लिए अधिक पसीने की आवश्यकता होती है।

  • आपकी उम्र

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, और आप महसूस करेगे की चेहरे पर पसीना क्यों आता है, क्योंकि उम्र बढ़ने पर आपका शरीर गर्मी के प्रति कम सहनशील होता जाता है। पसीने की ग्रंथियां उम्र के साथ बदलती हैं, जिससे शरीर प्रभावी ढंग से काम नहीं कर पाता और उसमे खुद को ठंडा करने की क्षमता भी धीरे धीरे कम होने लगती है।

हमे पसीना क्यों आता है

  • मांसपेशियों का द्रव्यमान

हमारी मांसपेशीयो का द्रव्यमान वसा की तुलना में अधिक गर्मी को पैदा करता है। इसलिए भले ही दो लोगों के शरीर का वजन समान हो, लेकिन उनके शरीर से पसीने के आने की दर उनके मांसपेशियों के प्रतिशत के आधार पर भिन्न-भिन्न होगी।

  • स्वास्थ्य की स्थिति

पसीना क्यों आता है यह स्वास्थ की स्थिति पर भी निर्भर करता है कई स्वास्थ्य स्थितियां और जीवन चरण आपके पसीने की मात्रा को प्रभावित कर सकते हैं। जैसे सर्दी, फ्लू और यहां तक ​​कि मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति, चिंता और अवसाद भी आपके पसीने आने की मात्रा को प्रभावित कर सकते हैं।

  • फिटनेस स्तर

जो लोग बहुत फिट होते हैं वो अक्सर यह सोचते है की उन्हें अपने कम फिट वालो की तुलना में ज्यादा पसीना क्यों आता है। लेकिन अगर फिट लोग और कम फिट लोग दोनों एक ही कार्य को कर रहे हैं, तो ऐसी स्थिति में कम फिट वाले व्यक्ति को अधिक पसीना आएगा क्योंकि उसे उसी कार्य को करने के लिए अपनी अधिक ऊर्जा को खर्च करना पड़ेगा।

पसीना क्यों आता है और फिटनेस से इसका संबंध क्या है?  

पसीना क्यों आता है और आप कितना पसीना बहाते हैं, इसमें बाहरी कारक भी भूमिका निभाते हैं। यदि आप 95-डिग्री की गर्मी में 70% आर्द्रता के साथ बाहर दौड़ रहे हैं, या एक गर्म योग कक्षा में भाग ले रहे हैं, तो आपका शरीर आपके आंतरिक तापमान को कम रखने के लिए पसीना बहाएगा। इसी तरह, मसालेदार भोजन खाने या कैफीनयुक्त पेय पदार्थ पीने से भी आपके शरीर का तापमान बढ़ सकता है, जिससे आप लोग यह महसूस करेगे की आपको अतिरिक्त पसीना आता है।

गर्म परिस्थितियों में व्यायाम के दौरान, ज्यादा पसीना क्यों आता है, क्योंकि औसत व्यक्ति पसीने के माध्यम से लगभग 1.5 से 2 लीटर तक तरल पदार्थ को शरीर से खो देता है। हाई humidity और गर्मी इसकी दर को दोगुनी कर देती है। यदि आप एक घंटे से अधिक समय तक व्यायाम या खेल रहे हैं, तो ज्यादा पसीना आने से dehydration को रोकने के लिए खोए गए तरल पदार्थ की आपूर्ति को करना बहुत जरुरी है।

  • कार्बोहाइड्रेट और इलेक्ट्रोलाइट्स (सोडियम क्लोराइड, पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम) युक्त स्पोर्ट्स ड्रिंक को लें।
  • प्रति घंटे 16 से 20 औंस को खोए हुए तरल पदार्थ की आपूर्ति के तौर पर ले (हर 15 से 20 मिनट के लिए चार से छह औंस)
  • एक घंटे से भी कम समय तक के व्यायाम के लिए स्पोर्ट्स ड्रिंक के बजाय पानी का विकल्प चुनें, लेकिन यह सुनिश्चित करें कि आप पर्याप्त रूप से हाइड्रेट रहे।

सर्दी में रात को पसीना क्यों आता है?

यदि आप यह देखकर हैरान है आपको सर्दी में रात को पसीना क्यों आता है? वो भी कड़ी ठंड में तो इसे हल्के में न लें, इसकी वजह गंभीर भी हो सकती है। चलिए जानते है:- 

सर्दी में रात को पसीना क्यों आता है, इसके कारण क्या है? 

यदि आपको कड़ाके की सर्दी में भी बिना किसी फिज़िकल वर्क के पसीना आ रहा है तो आपको संभलने की जरूरत है। क्योंकि सर्दी में पसीना आना किसी बीमारी का संकेत हो सकता हैं।

लो ब्लड प्रेशर:- सर्दी में रात में पसीना क्यों आता है यह लो ब्लड प्रेशर का संकेत हो सकता है। जिससे हार्ट अटैक की संभावना बढ़ जाती है। सर्दियों में लो ब्लड प्रेशर होने से दिल तक ब्लड को पहुंचाने वाली धमनियों में कैल्शियम की मात्रा बढ़ने लगती हैं। जिससे पसीना आता है और हार्ट रेट बढ़ने लगता है। ऐसे में डॉक्टर को तुरंत दिखाना चाहिए।

लो शुगर लेवल:- लो शुगर लेवल भी सर्दी में पसीना क्यों आता है इसका एक कारण है। किसी भी इंसान का खाली पेट नार्मल शुगर लेवल 1 डेसीलीटर खून में करीब 70 से 100 मिलीग्राम होना चाहिए। लेकिन अगर इससे कम है तो पसीना आना शुरू हो जाता है जो शरीर में शुगर कम होने का संकेत है। ऐसी स्थिति शुगर के मरीज के लिए खतरनाक होती है।

मेनोपॉज:- यदि किसी महिला की उम्र करीब पचास साल है और वह यह सोच रही है की उसे सर्दियों में पसीना क्यों आता है तो यह उसके लिए मेनोपॉज का संकेत हो सकता हैं। दरअसल, मेनोपॉज की शुरुआत में हार्मोनल गतिविधियों के चलते ज्यादा पसीना आता है।

मोटापा:- आपने देखा होगा की सर्दी मे पसीना क्यों आता है इसका एक कारण मोटापा भी है जिसके चलते सर्दियों में भी लोगों को पसीना आता है। मोटापे के कारण शरीर में अधिक कोलेस्ट्रॉल की मात्रा इसका एक कारण है।

रात को पसीना क्यों आता हैं?

यदि आप रात को पसीना आने की समस्या से परेशान है और खासकर रात में सोते वक्त ज्यादा पसीना आता है तो अलर्ट हो जाइए, ये लक्षण आपकी हेल्थ के लिए ठीक नहीं है। कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित होने पर रात में ज्यादा पसीना आने को इसके एक लक्षण के तौर पर देखा जा रहा है। रात को सोते समय पसीना आना यह सामान्य नहीं है। वैसे कभी-कभी सोते समय बॉडी टेम्परेचर में बदलाव भी इसका कारण हो सकता है।

रात में अधिक पसीना क्यों आता है, इसकी वजह क्या है? 

कभी-कभी बहुत ज्यादा तनाव लेने की वजह से हमारा ब्लड प्रेशर बढ़ने लगता है जो रात में ज्यादा पसीना आने का कारण बन जाता है। अत्यधिक दवाइयों के सेवन से भी ज्यादा पसीना आ सकता है, क्योंकि कुछ दवाएं हमारे दिमाग के उन हिस्सों पर असर डालती हैं, जो हमारे बॉडी टेम्परेचर को कंट्रोल करती है। इसलिए इन दवाइयों के कारण भी रात को ज्यादा पसीना आता है।

चेहरे पर पसीना क्यों आता है?

वैसे तो पसीना आना एक सामान्य सी बात है लेकिन चेहरे पर पसीना क्यों आता है यह गंभीर समस्या हो सकती है। चेहरे पर बहुत ज्यादा पसीना आना क्रोनियोफेशियल हाइपरहाइड्रोसिस (craniofacial hyperhidrosis) के कारण होता है। इसके कई कारण होते है, जैसे की मौसम में हो रहे बदलाव, स्ट्रेस की दवाओं का अधिक सेवन करना, स्मोकिंग करना जो पसीने की ग्रंथियों का ज्यादा एक्टिव कर देती है या इसके पीछे कुछ बीमारियों भी हो सकती है जिसके कारण भी आपको अधिक पसीना आता है, जैसे-मोटापा, इन्फेक्शन, लो बल्ड शुगर, थायरॉयड आदि। 

चेहरे पर पसीना क्यों आता है और इससे बचने के उपाय क्या है? 

यदि आपके चेहरे पर बहुत ज्यादा पसीना आता है तो आपको बहुत ज्यादा गर्म जगहों पर जाने से बचना चाहिए। चेहरे पर पसीना क्यों आता है इसके लिए आप चेहरे पर टमाटर के रस का प्रयोग करें, जिससे चेहरे पर मौजूद छिद्र बंद हो जाएंगे और आपको पसीना कम आयेगा। 

चेहरे पर ज्यादा पसीना आने की समस्या मानसिक रोगों के कारण भी हो सकती है, इससे बचने के लिए आपको रोजाना योगा और या मेडिटेशन जरूर करना चाहिए।

अगर फिर भी चेहरे पर ज्यादा पसीना आता है तो आपको पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए, ऐसा करने से आपकी बॉडी में पानी की कमी नहीं होगी। 

अंत में निष्कर्ष  

हालांकि हमे पसीना क्यों आता है वेसे यह एक सामान्य बात है, लेकिन यह हमेशा स्वागत योग्य नहीं होती है। आपके कपड़ों पर पसीने की गंध या पसीने के छल्ले का दिखना शर्मनाक हो सकता है। आप पसीने की गंध को ढकने के लिए डिओडोरेंट का उपयोग कर सकते हैं। कैफीन, मसालेदार भोजन और गर्म पेय पढ़ार्थ से दूर रहने की कोशिश करें।

बस यह ध्यान रखें, की पसीना आना एक शारारिक प्रक्रिया है जो आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में मदद करती है। यदि आपकी हथेलियों या पैरों जैसे विशिष्ट क्षेत्रों में अत्यधिक पसीना आ रहा हैं, तो आप हाइपरहाइड्रोसिस नामक स्थिति मे हो सकते है, जिसका चिकित्सकीय रूप से प्रिस्क्रिप्शन एंटीपर्सपिरेंट्स, बोटॉक्स या सर्जरी से इलाज किया जा सकता है।

यदि आपको पसीना क्यों आता है और आप अपने पसीने की आदत के बारे में चिंतित हैं, तो इसके कारणों को जानने के लिए वह प्राथमिक देखभाल के लिए चिकित्सक से बात जरूर करें। 

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है