पृथ्वी क्यों घूमती है? लेकिन हम नहीं घूमते इसका कारण क्या है?

0
489
पृथ्वी क्यों घूमती है?

हम सभी जानते हैं कि पृथ्वी घूम रही है, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की पृथ्वी क्यों घूमती है? हमारे सौरमंडल में सब कुछ क्यों घूम रहा है? और आश्चर्य यह है की ज्यादातर यह सब एक ही दिशा में घूम रहा है? क्या यह कोई संयोग है नहीं यह कोई संयोग नहीं हो सकता। 

विषय सूची

अगर हम ऊपर अंतरिक्ष से नीचे की ओर देखें, तो आप देखेंगे कि यह सब घूम रहा है। सूर्य, मंगल और अधिकांश ग्रहों के साथ भी ऐसा ही हो रहा है। आज से करीब 4.6 अरब साल पहले, जब हमारा सौर मंडल हाइड्रोजन के एक विशाल बादल के भीतर बन रहा था, तभी एक शॉकवेव ने ठंडी गैस के एक क्षेत्र को अपने पारस्परिक गुरुत्वाकर्षण के माध्यम से इसे अपने अंदर की ओर गिरा दिया, और जैसे ही यह गिरा, तभी यह बादल घूमने लगे।

तो क्या आप अभी भी सोच रहे हैं कि पृथ्वी क्यों घूमती है?

पृथ्वी कैसे और क्यों घूमती है? इस अवधारणा की और सैकड़ों वर्षों में कई वैज्ञानिकों का ध्यान आकर्षित किया है। यदि हम पृथ्वी के केंद्र से गुजरने वाली एक रेखा की कल्पना करें जो उत्तरी ध्रुव और दक्षिणी ध्रुव दोनों से होकर जाती है। इस काल्पनिक रेखा को अक्ष कहते हैं और पृथ्वी इसी अक्ष के चारों ओर एक स्पिनर के समान घूमती है।

यदि हम हाइड्रोजन के बादल में अलग-अलग परमाणुओं के बारे में सोचें, तो प्रत्येक कण का अपना संवेग होता है क्योंकि वह शून्य से होकर बहता है। चूंकि ये सभी परमाणु गुरुत्वाकर्षण के साथ एक दूसरे से संबंध होते हैं, इसलिए उन्हें अपनी गति को औसत करने की आवश्यकता होती है।

जैसे ही सौर मंडल अधिक तेजी से घूमता है, वैसे ही यह बीच में एक उभार के साथ एक डिस्क के रूप में चपटा हो जाता है। और हम पूरे ब्रह्मांड को इसी संरचना में देखते हैं: सभी आकाशगंगाओं का आकार, तेजी से घूमते हुए ब्लैक होल आदि।

पृथ्वी क्यों घूमती है

इस डिस्क के केंद्र में उभार से ही हमारे सूर्य का निर्माण हुआ, और फिर धीरे धीरे ग्रहों का निर्माण हुआ। शायद इसीलिए उन्हें सौर मंडल से ही अपना रोटेशन विरासत में मिला है।

कुछ सौ मिलियन वर्षों के दौरान, सौर मंडल में सभी ग्रहों, क्षुद्रग्रहों, चंद्रमाओं और धूमकेतुओं का निर्माण हुआ। फिर युवा सूर्य से निकले एक शक्तिशाली विकिरण और सौर हवाओं ने जो कुछ भी बचा हुआ था उसे साफ कर दिया।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है

इसके बाद बिना किसी असंतुलित बल के सूर्य और ग्रह अपनी ही धुरी पर अरबों वर्षों से घूम रहे है। और वे ऐसा तब तक करते रहेंगे जब तक कि भविष्य में कोई वस्तु उनसे टकरा न जाएं।

पृथ्वी का घूमना क्या है? What is Earth’s rotation?

पृथ्वी क्यों घूमती है? और पृथ्वी का घूमना क्या है? सोचिये अगर कोई आपसे कहे कि आप हर समय ध्वनि की गति से भी अधिक गति से यात्रा कर रहे हैं? तब आप शायद सोचगे कि सब पागलपन की बाते है, ऐसा कैसे हो सकता हैं क्योकि आप तो एक ठोस व स्थिर जमीन पर खड़े हैं। लेकिन फिर भी, उपरोक्त कथन सही है। हम सभी किसी भी समय, लगभग 1,674 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से आगे बढ़ रहे होते हैं और यह सब पृथ्वी के घूमने के कारण होता है।

दरअसल, पृथ्वी का रोटेशन अपने अक्ष पर एक बार घूमने में लगने वाले समय की मात्रा है। यह दिन में एक बार यानी हर 24 घंटे में पूरा किया जाता है। इसके अलावा, वास्तव में दो अलग-अलग प्रकार के रोटेशन होते हैं जिन पर विचार करने की आवश्यकता है। एक है पृथ्वी द्वारा अपनी धुरी पर घूमना और दूसरा है पृथ्वी का सूर्य के चारों ओर घूमना।

पृथ्वी क्यों घूमती है? Why does the Earth rotate?

पृथ्वी क्यों घूमती है? पृथ्वी अपनी धुरी के चारों ओर प्रतिदिन एक बार घूमती है, जिससे सूर्योदय और सूर्यास्त होते है। पृथ्वी 4.6 अरब साल पहले अपने निर्माण के बाद से ही ऐसे ही घूम रही है। और यह तब तक ऐसे ही घूमती रहेगी जब तक दुनिया खत्म नहीं हो जाती। लेकिन यह ऐसे ही क्यों घूमती है? 

पृथ्वी गैस और धूल की डिस्क से बनी है जो नव निर्मित सूर्य के चारों ओर घूमती है। इस डिस्क में, कुछ धूल और चट्टान ने एक साथ चिपक कर पृथ्वी का निर्माण किया हैं। प्रारंभिक सौर मंडल में मलबे के कारण जो लगभग एक ही दिशा में सूर्य के चारों ओर घूम रहा था। जैसे-जैसे वह बढ़ता गया, अंतरिक्ष की चट्टानें नवजात ग्रह पृथ्वी से टकराते रहे, जिससे इसे घूमने की शक्ति प्रदान की।

क्या पृथ्वी का रोटेशन एक सामान्य व्यवहार है? Is Earth’s rotation a normal behavior?

पृथ्वी क्यों घूमती है? और क्या पृथ्वी का रोटेशन एक सामान्य व्यवहार है? लेकिन यहां एक और सवाल उठता है कि सौरमंडल क्यों घूम रहा है? सूर्य और उसका सौरमंडल तब बना जब धूल और गैस का एक बादल अपने ही भार के कारण ढह गया। गैस के अधिकांश भाग संघनित होकर सूर्य बन गए, जबकि शेष सामग्री आसपास के ग्रह-निर्माण के साथ एक डिस्क के रूप में चले गये। 

ढहने से पहले यह गैस के अणु और धूल के कण इधर-उधर घूम रहे थे। लेकिन एक निश्चित बिंदु पर, कुछ गैस और धूल एक विशेष दिशा में अपने स्पिन को गति में सेट करने के लिए थोड़ा और स्थानांतरित हुए तो यह गैस का बादल ढह गया, जिससे बादल का घूमना ओर तेज हो गया।

पृथ्वी क्यों घूमती है

अंतरिक्ष में, चीजों को धीमा करने के लिए कुछ भी नहीं है, एक बार जब कुछ घूमने लगता है तो फिर वह घूमता ही रहता है। आज सौर मंडल में ऐसे बहुत से कोणीय गति (Angular Momentum) है जो इसका घूमना जारी रखते है। इसलिए, सौर मंडल के निर्माण के समय से ही सभी ग्रह एक ही दिशा में घूम रहे हैं।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है 

कुछ ग्रह अपनी गति पर स्वयं चक्कर लगाते हैं। शुक्र पृथ्वी के विपरीत दिशा में घूमता है। इसके अलावा, यूरेनस रोटेशन अक्ष 90 डिग्री झुका हुआ है। अनेको बाधाओं के बावजूद अंतरिक्ष में सब कुछ किसी न किसी दिशा में घूमता ही रहता है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि रोटेशन ब्रह्मांड में वस्तुओं का एक मौलिक व्यवहार है।

पृथ्वी घूमती है लेकिन हम क्यों नहीं घूमते? Earth rotates but why don’t we rotate?

पृथ्वी क्यों घूमती है? यह तो आप जान ही गये होंगे लेकिन क्या आपको पता है की पृथ्वी बहुत तेज घूमती है। यह लगभग 1,000 मील (1674 किलोमीटर) प्रति घंटे की गति से घूमती है और लगभग 67,000 मील (107,000 किलोमीटर) प्रति घंटे की गति से सूर्य की परिक्रमा करती है। हम पृथ्वी के घूमने की गति का अनुभव क्यों नहीं करते हैं क्योंकि पृथ्वी की गति स्थिर हैं। 

पृथ्वी की रोटेशन और कक्षीय गति समान रहती है इसलिए हमें उसकी घूमने की गति को महसूस नहीं करते है। आप गति को तभी महसूस कर सकते हैं जब आपकी गति में परिवर्तन हो। उदाहरण के लिए, यदि आप एक ऐसी कार में बैठे हैं जो समतल सतह पर एक स्थिर गति से चल रही है, तो आपको उसकी गति का अनुभव नहीं होगा। हालांकि, जब कार की गति में परिवर्तन होता है या जब ब्रेक लगाता हैं, तो आप गति को महसूस करते हैं।

पृथ्वी क्यों घूमती है इससे सम्बंधित कुछ प्रश्न और उनके उत्तर 

पृथ्वी अंतरिक्ष में कहाँ स्थित है? Where is Earth located in space?

हमारी पृथ्वी ब्रह्मांड में आकाशगंगाओं के वर्गो सुपरक्लस्टर में स्थित है। एक सुपरक्लस्टर गुरुत्वाकर्षण द्वारा एक साथ रखी गई आकाशगंगाओं का एक समूह होता है। जिसे स्थानीय समूह कहा जाता है। पृथ्वी इस स्थानीय समूह की दूसरी सबसे बड़ी आकाशगंगा मिल्की वे में स्थित है।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है

पृथ्वी कैसे घूमती है? How does the earth rotate?

पृथ्वी अपने अक्ष पर 23.5 डिग्री झुकी हुई है और यह सूर्य का एक चक्कर 365 दिनों में पूरा करती है। सूर्य पूर्व दिशा में उगता है और पश्चिम में अस्त होता है, जिसका अर्थ यह है कि पृथ्वी पश्चिम से पूर्व की ओर घूम रही है। पृथ्वी अपने चुंबकीय क्षेत्र के कारण यह पश्चिम से पूर्व की ओर घूमती है। जब पृथ्वी अपनी धुरी पर पश्चिम से पूर्व की ओर घूमती है, तो चंद्रमा और सूर्य (और अन्य सभी खगोलीय पिंड) आकाश में हमे पूर्व से पश्चिम की ओर बढ़ते हुए दिखाई देते हैं।

पृथ्वी पर उच्चतम और निम्नतम तापमान क्या हैं? What are the highest and lowest temperatures on Earth?

लीबिया के रेगिस्तान में पृथ्वी पर अब तक का उच्चतम तापमान 136 फ़ारेनहाइट (58 सेल्सियस) दर्ज किया गया है। अंटार्कटिका के वोस्तोक स्टेशन पर अब तक का सबसे ठंडा तापमान -126 फ़ारेनहाइट (-88 सेल्सियस) मापा गया है।

पृथ्वी का वजन कितना है और इसे कैसे मापा जाता है? How much does the Earth weigh and how is it measured?

पृथ्वी का वजन लगभग 13,170,000,000,000,000,000,000,000 पाउंड (या 5,974,000,000,000,000,000,000,000 किलोग्राम) है। चूँकि पृथ्वी एक पैमाने पर रखने के लिए बहुत बड़ी है, इसलिए वैज्ञानिक पृथ्वी के वजन का पता लगाने के लिए गणित और गुरुत्वाकर्षण के नियमों का उपयोग करते हैं।

पृथ्वी किससे बनी हुई है? What is the earth made of?

पृथ्वी कई चीजों से बनी हुई है। पृथ्वी का कोर निकल और लोहे से बना है। कोर के ऊपर पृथ्वी का मेंटल है, जो सिलिकॉन, लोहा, मैग्नीशियम, एल्यूमीनियम, ऑक्सीजन और अन्य खनिजों से युक्त चट्टान से बना है। पृथ्वी की चट्टानी सतह परत, जिसे क्रस्ट कहा जाता है, ज्यादातर ऑक्सीजन, सिलिकॉन, एल्यूमीनियम, लोहा, कैल्शियम, सोडियम, पोटेशियम और मैग्नीशियम से बनी होती है। पृथ्वी की सतह मुख्य रूप से तरल पानी से ढकी हुई है और इसके वातावरण में मुख्य रूप से नाइट्रोजन और ऑक्सीजन है, जिसमें कार्बन डाइऑक्साइड, जल वाष्प और अन्य गैसों की थोड़ी मात्रा है।

पृथ्वी कितनी बड़ी है? How big is the earth?

पृथ्वी की परिधि (भूमध्य रेखा के चारों ओर की दूरी) 24,901 मील (40,075 किलोमीटर) है। इसका व्यास (पृथ्वी के केंद्र से एक तरफ से दूसरी तरफ की दूरी) 7,926 मील (करीब 12,756 किलोमीटर) है। उत्तरी और दक्षिणी ध्रुवों के बीच मापे जाने पर पृथ्वी थोड़ी छोटी होती है जो 7,907 मील (12,725 किलोमीटर) का व्यास देती है। पृथ्वी अपने रोटेशन के कारण ध्रुवों की तुलना में भूमध्य रेखा के चारों ओर थोड़ी अधिक उभरी हुई है।

पृथ्वी की आयु कितनी है? How old is the earth?

पृथ्वी की आयु 4.5 से 4.8 अरब वर्ष के बीच मानी जाती है। पृथ्वी की आयु का पता बहुत पुरानी चट्टानों की आयु को मापने से लगाया जाता है। वैज्ञानिकों ने पृथ्वी की सतह पर गिरने वाले उल्कापिंडों की उम्र और अपोलो अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा वापस लाए गए चंद्रमा की चट्टानों की उम्र भी मापी है। उल्कापिंड और चंद्रमा दोनों ही पृथ्वी के समय के आसपास बने हैं, और वे समान आयु दिखाते हैं।

आप हमारे इन आर्टिकल्स को भी देख सकते है